बाराबंकी के ठग ने आजमगढ़ के युवक को लाटरी का विजेता बताकर 1.60 लाख ठगे

Azamgarh, Uttar Pradesh, India
बाराबंकी के ठग ने आजमगढ़ के युवक को लाटरी का विजेता बताकर 1.60 लाख ठगे

 पीडि़तों की शिकायत पर पुलिस ने मामला पंजीकृत कर जांच शुरू कर दिया है

आजमगढ़.  लाटरी का विजेता घोषित कर जालसाजों ने सिधारी क्षेत्र के रहने वाले व्यक्ति को एक लाख 60 हजार रुपये का चूना लगा दिया। वहीं नौकरी और फर्जी बैनामा कराकर ठगी करने का भी मामला प्रकाश में आया है। पीडि़तों की शिकायत पर पुलिस ने मामला पंजीकृत कर जांच शुरू कर दिया है।
 


सिधारी थाना क्षेत्र के बैठौली ग्राम निवासी रामअवध पुत्र स्व. पतिराज यादव के मोबाइल फोन पर कुछ दिनों पूर्व अज्ञात व्यक्ति ने काल किया और उन्हें लकी ड्रा में विजेता घोषित होने की जानकारी दी। इसके बाद उस व्यक्ति ने भुगतान प्राप्त करने के लिए सरकारी टैक्स जमा करने के नाम पर पीड़ित से अपने बताए गए बैंक अकाउंट नंबर में लगभग एक लाख 60 हजार रुपये रुपए जमा करा लिए। नकदी प्राप्त करने के बाद उक्त जालसाज व्यक्ति ने अपना मोबाइल स्विच आफ कर दिया।


 इसके बाद पीड़ित को खुद के ठगे जाने का एहसास हुआ तो उसने मोबाइल नंबर के माध्यम से जालसाजों के बारे में पता लगाना शुरु किया। पता लगने पर पीड़ित ने सिधारी थाने में रविवार को बाराबंकी जिले के निवासी आलोक तिवारी, पारसनाथ तथा गोरखनाथ के खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज कराई। मामले की विवेचना उपनिरीक्षक रमेश यादव को सौंपी गई है।



इसी क्रम में कंधरापुर थाने की पुलिस ने नौकरी के नाम पर तीन लाख रुपये हजम कर लेने के आरोप में स्थानीय दरौरा ग्राम निवासी हरिगोविंद सिंह व संतोष शर्मा के खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की है। इस मामले में दरौरा ग्राम के रहनेवाले हरिनाथ सिंह पुत्र अवधू सिंह ने विपक्षियों पर आरोप लगाया है कि गांव के उक्त दोनों व्यक्तियों ने नौकरी दिलाने के नाम पर उससे तीन लाख रुपये ले लिए। नौकरी न मिलने पर पीड़ित ने जब अपने रकम की मांग किया तो उसके साथ गाली-गलौज करते हुए जान-माल की धमकी दी गई।



वहीं फूलपुर कोतवाली क्षेत्र के कनेरी ग्राम निवासी महिला ने गांव के ही आधा दर्जन लोगों के खिलाफ फर्जी दस्तावेज तैयार कर भूमि का फर्जी बैनामा कराने तथा मारपीट कर घायल करने का आरोप लगाया है। विनीता सुभावती देवी पत्नी सत्यनारायण का आरोप है कि उसके गांव के जयकरन पांडेय व उनके पुत्र महेंद्र पांडेय सहित आधा दर्जन लोगों ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर वादनी के पति के नाम दर्ज भूमि का बैनामा करा लिया। 




मना करने पर विपक्षियों ने पीड़िता को मारपीट कर घायल कर दिया। घटना बीते वर्ष नौ जनवरी को हुई बताई गई है। पुलिस ने इस मामले में आरोपित किए गए आधा दर्जन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की है। मामले की जांच उपनिरीक्षक कैलाशनाथ कर रहे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned