फैसला: सामान्य मुआवजा की जगह 11 गुना मुआवजा देने का आदेश

Editorial Khandwa

Publish: Dec, 02 2016 02:36:00 (IST)

badwani
 फैसला: सामान्य मुआवजा की जगह 11 गुना मुआवजा देने का आदेश

बच्चियों के भविष्य को देखते हुए किया 22 लाख से अधिक का अवार्ड

बड़वानी. सड़क दुर्घटना में मृत व्यक्ति पर आश्रित तीन महिलओं की स्थिति को देखते हुए जिला एवं सत्र न्यायाधीश पीसी शर्मा ने 1 दिसंबर को पारित अपने निर्णय में आईसीआसीआई लोंबार्ड जनरल इंश्योरेंस कंपनी इंदौर को सामान्य मुआवजा की जगह 11 गुना मुआवजा बढ़ाकर 22 लाख 42 हजार रुपए की राशि देने का आदेश दिया है। जिला एवं सत्र न्यायाधीश पीसी शर्मा ने ये आदेश मृतक के परिवार में मात्र पत्नी एवं उसकी दो पुत्रियों के बेहतर भविष्य के मद्देनजर दिया है।
प्रकरण अनुसार मृतक पुखराज 24 सितंबर 2015 को अपनी मोटरसाइकिल पर ग्राम जाहूर अपने घर जा रहा था। तभी सामने से  कार क्रं. एमएच 18  डब्ल्यू 9450 के चालक ने तेजी व लापरवाहीपूर्वक चलाकर मृतक की बाइक को टक्कर मार दी। इस दुर्घटना में पुखराज मोते की उपचार के दौरान मौत हो गई। मृतक जनपद पंचायत डही में संविदा उपयंत्री के पद पर कार्यरत था और प्रतिमाह 23,6 50 रुपए की आय अर्जित करता था। संविदा नियुक्ति होने से मृतक की मृत्यु के उपरांत उसके परिवार को किसी प्रकार की कोई भविष्य निधि की राशि या नियुक्ति की पात्रता नहीं आती है।
भविष्य को देखते हुए अवार्ड पारित
पिता के प्रेम एवं स्नेह से वंचित हुई दो लड़कियों के भविष्य को देखते हुए जिला एवं सत्र न्यायाधीश शर्मा ने 22 लाख 42 हजार रुपए का अवार्ड पारित किया है। मोटर यान अधिनियम की धारा 166  एवं 140 के अनुसार 11 लाख 42 हजार रुपए की राशि मृतक की पत्नी अरूणा मोते को 5 लाख 50 हजार रुपए की राशि मृतक की पुत्री प्रीति मोते को एवं 5 लाख 50 हजार रुपए की राशि मृतक की दूसरी पुत्री एकता मोते को बीमा कंपनी द्वारा प्रदान की जाएगी। प्रकरण में पैरवी अधिवक्ता जितेंद्र शर्मा द्वारा की गई।

Rajasthan Patrika Live TV

अगली कहानी
1
Ad Block is Banned