सेंधवा की सत्ता के लिए विपक्ष से सत्ताधारी तक सक्रिय

Badwani, Madhya Pradesh, India
सेंधवा की सत्ता के लिए विपक्ष से सत्ताधारी तक सक्रिय

नपा चुनाव के लिए सीटें आरक्षित हो गईं हैं। 16 सीटों पर नए चेहरे दिखने की उम्मीद हैं। दोनों प्रमुख पार्टियों की ओर से रणनीति बननी शुरू हो गई है।  

सेराज अहमद खां. सेंधवा
नपा चुनाव के लिए सीटें आरक्षित हो गईं हैं। कई सीटों की स्थिति इस बार बदल चुकी हैं। आरक्षण के तहत 16 सीटों पर नए चेहरे दिखने की उमम्मीद हैं। नए चेहरों को लेकर सरगर्मियां भी बढ़ गई हैं। चुनाव का वक्त करीब आते ही जीत हार को लेकर गुणा गणित शुरू है। दोनों प्रमुख पार्टियों बीजेपी एवं कांग्रेस की ओर से रणनीति बननी शुरू हो गई हैं। कई दिनों पूर्व से ही उम्मीदवारों एवं चुनाव में जीत को लेकर बैठकें भी शुरू कर दी गईं थी। अब सीटों की स्थिति तय होने के बाद प्रत्याशी चयन व वोटर्स के रूझान पर नजर है।

राजनीतिक दृष्टि से सेंधवा नगरपालिका का चुनाव अहम स्थान रखता है। दोनों दलों के कद्दावर नेताओं का गढ़ सेंधवा ही है। ऐसे में यहां किसी भी चुनाव में जीत हार के बड़े मायने हैं। इस वर्ष नपा चुनाव के लिए सीटों के आरक्षण पर नजर डालें तो 8 अनारक्षित को छोड़कर शेष सीटों पर तस्वीर बदल चुकी है। इसमें 6 सामान्य महिला, 1 अजा महिला, 1 अजजा महिला, 1 अजा, 3 पिछड़ा, 3 पिछड़ी महिला एवं 1 अजजा सीटें हैं। आरक्षण के चलते सीटों से चुनावी मैदान में उतरने के लिए नए चेहरे भी अब सक्रिय हो गए हैं। नए चेहरों के अलावा संभावित युवा उम्मीदवार भी चुनाव को लेकर जोड़ भाग शुरू कर चुके हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व पदाधिकारियों तक उपस्थिति दर्ज कराने सहित वोटर्स में भी पैठ बनाने के लिए कवायदें शुरू हो चुकी हैं। सीटों पर आरक्षण की स्थिति साफ होने से वर्तमान पार्षद जो दोबारा चुनाव लडऩा चाहते हैं, वे भी अन्य वार्ड्स से चुनावी मैदान में उतरतने की तैयारी में हैं। भाजपा व कांग्रेस दोनों ही पार्टियों मेें भावी उम्मीदवारी के लिए गतिविधियां तेज हो गईं हैं। अपने-अपने स्तर से जुगाड़ भी लगाए ही जा रहे हैं। 


पुराने चेहरों को भी मिल सकता है मौका
सीटों की स्थिति तय होने के बाद कई सीटों पर चेहरे बदलने की स्थिति तो बन ही गई है। हालांकि अनारक्षित सीटों पर पुराने चेहरे दोबारा दिख सकते हैं। कांग्रेस की ओर से वार्ड 02 से प्रिंस शर्मा, वार्ड 14 से इकबाल खान को दोबारा चुनाव लडऩे का मौका मिल सकता है। भाजपा से वार्ड 23 से सुरेंद्र मंडलोई, वार्ड 06 से लता चौधरी, वार्ड 07 से धामोने परिवार, वार्ड 14 से इल्मुद्दीन शेख को पुन: उम्मीदवार बनाए जाने की संभावना है। भावी उम्मीदवार टिकट पक्की कराने के लिए सक्रियता बढ़ा चुके हैं। वोटर्स के नाम भी बढ़ाने में व्यस्त हो चुके हैं। पार्टी में पहुंच से लेकर वोटर्स तक पकड़ मजबूत करने के लिए दौड़ भाग शुरू हो चुकी है। वरिष्ठ नेताओं की पूछ परख भी अब बढ़ गई है। दूसरी तरफ टिकट न मिलने की स्थिति में कुछ वार्ड्स में निर्दलीय भी मैदान में उतर सकते हैं। दोनों दलों में इस बार बगावत की आशंका से भी इन्कार नहीं किया जा सकता है।

वर्तमान में नगरपालिका परिषद में ये स्थिति
नगरपालिका परिषद की 24 सीटों पर गौर करें तो साफ है कि पिछले चुनाव में भाजपा को ज्यादा सीटें मिली थीं। सिर्फ 07 सीटों पर ही कांग्रेस के प्रत्याशियों ने जीत का वरण किया था। इस बार चुनाव में बढ़त बनाने के लिए कांग्रेस ने अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है। कांग्रेस चुनाव पर्यवेक्षक ने हाल ही में कार्यकर्ताओं व पार्टी पदाधिकारियों की बैठक भी ली थी। इसी तरह भाजपा की ओर से भी बैठक कर चुनावी योजनाएं बना ली गई हैं। आगामी दिनों में बैठकों और चुनावी गतिविधियों में और इजाफा होने की संभावना है। भाजपा ने 20 सीटों पर विजयी होने का लक्ष्य बनाकर रणनीति बनाई है। कांग्रेस की रणनिति भी कुछ इसी तरह है। जीत हार को लेकर पार्टियों की ओर से बिसात बिछने लगी है। भाजपा सूत्रों से ज्ञात हुआ नपा चुनाव में कुछ कांग्रेसी भाजपा का दामन थाम सकते हैं।
 
पिछले चुनाव में पार्टियों की स्थिति
कुल वार्ड, सीटें-24
अध्यक्ष पद-भाजपा
भाजपा की सीटें-17
कांग्रेस की सीटें-07

 
वर्तमान में नपा चुनाव में मतदाता-42383 (पुनरीक्षण जारी)

इस वर्ष सीटों की स्थिति
कुल सीटें-24  
सामान्य महिला-06
अजा महिला-01
अजजा महिला-01
अजा-01
पिछड़ा-03
पिछड़ी महिला-03
अजजा-01
अनारक्षित-08

पिछले चुनाव की स्थिति
सामान्य महिला-04
अजा महिला-01
अजजा महिला-02
अजा-01
पिछड़ा-01
पिछड़ी महिला-06
अजजा-01
अनारक्षित-08


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned