17 साल बाद शहर में हुई दोहरे कचरा पात्र की वापसी

Shankar Sharma

Publish: Jun, 20 2017 04:36:00 (IST)

Bangalore, Karnataka, India
17 साल बाद शहर में हुई दोहरे कचरा पात्र की वापसी

गार्डन सिटी में सोमवार को 17 साल के लंबे अंतराल के बाद सार्वजनिक स्थलों पर कचरा फेंकने के लिए दोहरे पात्रों की पुरानी व्यवस्था फिर से लौट आई

बेंगलूरु. गार्डन सिटी में सोमवार को 17 साल के लंबे अंतराल के बाद सार्वजनिक स्थलों पर कचरा फेंकने के लिए दोहरे पात्रों की पुरानी व्यवस्था फिर से लौट आई। ठोस कचरे के संग्रहण और निस्तारण में आ रही चुनौतियों से निपटने के लिए बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका ने एक बार फिर से पुरानी व्यवस्था को अपनाने का फैसला किया है। मौजूदा घर-घर कचरा संग्रहण की व्यवस्था वाणिज्यिक इलाकों और कच्ची बस्तियों में ज्यादा कारगर सिद्ध नहीं हो पा रही थी। 17 साल पहले कचरा संग्रहण और निस्तारण की प्रक्रिया का निजीकरण किए जाने के बाद दोहरे कचरा पात्र की व्यवस्था खत्म हो गई थी।

शहर के प्रमुख वाणिज्यिक इलाके गांधीनगर के नेशनल मार्केट में दोहरे कचरा पात्र स्थापित करने के अभियान की शुरुआत बेंगलूरु विकास मंत्री के.जे. जार्ज ने की। इसमें सूखे और गीले कचरे को फेंकने के लिए अलग-अलग पात्र होंगे। महापौर जी पद्मावती ने कहा कि इन पात्रों की क्षमता 200 लीटर की है और इसे शहर के वाणिज्यिक क्षेत्रों और कच्ची बस्तियों में स्थापित किया जाएगा। उन्होंंने कहा कि मुख्यमंत्री नगरोत्थान योजना के तहत पालिका के सभी जोनों में 2232 जगहों पर ऐसे दोहरे कचरा पात्र लगाए जाएंगे। यह काम अगले 15 दिन में पूरा हो जाएगा।


तत्कालीन मुख्यमंत्री एस एम कृष्णा के कार्यकाल के दौरान वर्ष 2007 में स्वच्छ बेंगलूरु अभियान के तहत शहर को कचरा पात्रों से मुक्त करने की नीति अपनाई गई थी। कृष्णा सरकार द्वारा 1999 में गठित बेंगलूरु एजेंडा टास्क फोर्स के सहयोग से इस योजना को लागू किया गया था। इससे पहले शहर के हर आवासीय मोहल्लों और वाणिज्यिक क्षेत्रों में सीमेंट के बड़े  आकार के कचरा पात्र होते थे, जहां लोग कचरा फेंका करते थे। शहर की सफाई व्यवस्था को ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश के तहत दोहरे कचरा पात्र व्यवस्था खत्म की गई थी।

खत्म होगा निजीकरण
दोहरे कचरा पात्र लगाने के साथ ही  पालिका अब ठोस कचरा निस्तारण की जिम्मेदारी भी खुद संभालने की तैयारी कर रहा है। महापौर पद्मावती  ने कहा कि पालिका शहर में झाड़ू लगाने, कचरा संग्रहण, परिवहन और ठोस निस्तारण सहित सभी कार्य खुद संभालेगी। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया को पूरा करने में अभी दो- तीन महीने का वक्त लगेगा। पालिका को अभी निजी ठेकदार कचरा संग्रहण के लिए वाहन उपलब्ध कराते हैं लेकिन अब पालिका खुद का वाहन खरीदने की प्रक्रिया शुरु कर चुकी है।

पालिका के संयुक्त आयुक्त सरफराज खान ने कहा कि अभी निजी ठेकेदार कचरा संग्रहण और परिवहन के लिए पालिका को 400 कॉम्पेक्टर और 8000 ऑटो रिक्शा उपलब्ध कराते हैं। पालिका के पास 75 कॉम्पेक्टर हैं और 100 पोर्टेबल कॉम्पेक्टर की खरीद के लिए निविदा जारी की जा चुकी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned