पीएसएलवी की अगली उड़ान 7 को

Shankar Sharma

Publish: Dec, 01 2016 11:27:00 (IST)

Bangalore, Karnataka, India
पीएसएलवी की अगली उड़ान 7 को

देश का नवीनतम अर्थ ऑब्जर्वेशन उपग्रह रिसोर्ससैट-2 ए आगामी 7 दिसम्बर को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पहले लांच पैड से छोड़ा जाएगा

बेंगलूरु. देश का नवीनतम अर्थ ऑब्जर्वेशन उपग्रह रिसोर्ससैट-2 ए आगामी 7 दिसम्बर को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पहले लांच पैड से छोड़ा जाएगा। इसके लिए इसरो का विश्वसनीय धु्रवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी (सी-36  )  38   वीं बार उड़ान भरने को तैयार है।


इसरो निदेशक (जनसंपर्क) देवी प्रसाद कार्णिक ने बताया कि रिसोर्ससैट-2 ए का प्रक्षेपण 7 दिसम्बर सुबह 10.24 बजे किया जाएगा। लगभग 1235 किलोग्राम वजनी इस अर्थ ऑब्जर्वेशन उपग्रह को धरती से 8 17 किलोमीटर ऊपर सूर्य समकालिक धु्रवीय कक्षा (एसएसपीओ) में स्थापित किया जाएगा। इसके लिए फिर एक बार इसरो पीएसएलवी के विस्तारित वर्जन (एक्सएल) का उपयोग करेगा। रिसोर्ससैट-2ए उपग्रह वर्ष 2003 में भेजे गए रिसोर्ससैट-1 और वर्ष 2012 में भेजे गए रिसोर्ससैट-2 की अगली कड़ी है।

यह उपभोक्ताओं को उन्नत बहु वर्णक्रमीय एवं स्थानिक दूर संवेदी आंकड़े उपलब्ध कराएगा। इस उपग्रह में त्रि-स्तरीय इमेजिंग क्षमता है।  प्रमुख रूप से इसके पे-लोड तीन ठोस कैमरे हैं जिनमें हाई रिजोल्यूशन इमेजिंग सेल्फ स्कैनिंग सेंसर (एलआईएसएस-4), मीडियम रिजोल्यूशन लिनियर इमेजिंग सेल्फ स्कैनिंग सेंसर (एलआईएसएस-3) और एडवांस्ड वाइड फील्ड सेंसर (एडब्ल्यूआईएफएस) हैं। इसरो ने कहा है कि वर्ष 1994 से 2016   तक वह 121 उपग्रहों का प्रक्षेपण कर चुका है जिसमें से 79 विदेशी उपग्रह हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned