अगले सत्र से बदलेगा छात्राओं का गणवेश

Mukesh Sharma

Publish: Feb, 17 2017 12:31:00 (IST)

Bangalore, Karnataka, India
अगले सत्र से बदलेगा छात्राओं का गणवेश

आने वाले शिक्षण सत्र से प्रदेश के सरकारी और अनुदान प्राप्तस्कूलों की छात्राएं नए चूड़ीदार में नजर आएंगीं। विभाग ने

बेंगलूरु।आने वाले शिक्षण सत्र से प्रदेश के सरकारी और अनुदान प्राप्तस्कूलों की छात्राएं नए चूड़ीदार में नजर आएंगीं। विभाग ने 8वीं, 9वीं और 10वीं की करीब सभी छात्राओं के लिए चूड़ीदार के कपड़े की आपूर्ति करने संगम इंडिया कंपनी का चयन भी कर लिया है। एक सप्ताह में कार्यादेश जारी कर दिया जाएगा, जिसमें 20 दिनों में कपड़ा आपूर्ति हो जाएगी। प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री तनवीर सेत ने गुरुवार को बताया कि हाई स्कूल की छात्राओं को जून के आरंभ में ही चूड़ीदार गणवेश उपलब्ध करा दिया जाएगा।
 
गणवेश को जल्द गंदा होने से बचाने के लिए ओलिव ग्रीन, हरित चक्स के लाल—पीले मिश्रित रंग का कपड़ा होगा। पहले चरण में बेंगलूरु, मैसूरु, बेलगावी और कलबुर्गी संभाग के सभी सभी हाईस्कूलों में गणवेश उपलब्ध कराया जाएगा। कपड़ा मिलते ही स्कूलों के प्राचार्य चूड़ीदार की सिलाई का आर्डर देंगे। महिला दर्जी छात्राओं का नाप लेंगी और एक सप्ताह के अंदर चूड़ीदार की सिलाई करेंगी।

एक साल में दो या तीन चूड़ीदार, कमीज और दुपट्टा दिया जाएगा। बेल्ट और जूते भी दिए जाएंगे।  सेत ने कहा कि 15 जून से नियमित कक्षाएं शुरू हो जाएंगी। इस बार नए पाठ्यक्रम होंगे। सरकार नर्सरी स्कूल आरंभ करने पर विचार कर रही है। इसके लिए ठेके पर शिक्षकों की सेवा प्राप्त की जाएगी।

प्राथमिक शिक्षकों को नर्सरी के बच्चों को पढ़ाने की जरूरत नहीं। प्राथमिक और हाईस्कूलों में 15 हजार कमरों के निर्माण कार्य जारी हैं। 7 हजार स्कूलों में शौचालय निर्मित किए जा रहे हैं। सरकार से बजट में शिक्षा के लिए अधिक अनुदान मांगा गया है।

एक समीक्षा के अनुसार प्रदेश में कुल 5 लाख, 21 हजार, 713 छात्राएं हैं। बेंगलूरु संभाग में 1 लाख, 37,707, कलबुर्गी संभाग में 1 लाख, 35,284, बेलगावी संभाग में 1 लाख, 47,418 और मैसूरु संभाग में 1 लाख 1,304 छात्राए है। उन्होंने कहा की चूड़ीदार के लिए तीन सौ से चार सौ रुपए कीमत तय की गई है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned