बलात्कारी लेखपाल, नौकरी दिलाने के नाम पर महिला का करता रहा यौन उत्पीडऩ 

Ashish Pandey

Publish: Jun, 20 2017 10:34:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
बलात्कारी लेखपाल, नौकरी दिलाने के नाम पर महिला का करता रहा यौन उत्पीडऩ 

कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने दर्ज किया मामला, जांच में जुटी। 

बाराबंकी. जिले में एक लेखपाल द्वारा महिला की सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर यौन उत्पीडऩ करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है जिसके बाद आरोपी लेखपाल सफाई में खुद को निर्दोष साबित करने में जुट गया है। उधर यौन उत्पीडऩ की शिकार महिला की सुनवाई जब थाने में नही हुयी तो उसने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जिसके बाद पुलिस ने आरोपी लेखपाल के खिलाफ  मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

महिलाओं और लड़कियों के साथ यौन उत्पीडऩ के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। ताजा मामला बाराबंकी जिले के थाना जैदपुर स्थित एक गांव का है। जहां की रहने वाली एक महिला ने तहसील नवाबगंज में तैनात आरोपी लेखपाल मंशा राम के खिलाफ  संगीन आरोप लगाए हैं। पीडि़त महिला का आरोप है कि आय प्रमाण पत्र में कम आय दिखाने के लिए पीडि़त महिला लेखपाल मंशा राम से मिली थी। लेखपाल ने उसकी शैक्षिक योग्यता का हवाला देते हुए उसकी चतुर्थ श्रेणी की सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देकर पहले तो उसका मोबाइल नंबर लिया और फिर धीरे धीरे महिला से बातचीत करने लगा। महिला का आरोप है कि एक बार उसने उसे घर से बाहर मिलने के लिए बुलाया और उसे गिफ्ट में एक मल्टीमीडिया का मोबाइल फोन भी दिया, जिसके बाद वो उसी मोबाइल फोन पर महिला से अश्लील बातें भी शुरू कर दी।

जबरन शारीरिक सम्बन्ध भी बनाये
आरोप है की लेखपाल ने एक दिन महिला को अपने रूम पर बुलाया और उसे नशीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ जबरन शारीरिक सम्बन्ध भी बनाये। इस दौरान उसने उसकी अश्लील वीडियों भी बनाई जिसके बाद से वो लेखपाल की ब्लैकमेल का शिकार बनती गयी। पीडि़त महिला का आरोप है कि पिछले 29 अप्रैल को जब वो घर पर अकेली थी उसी दौरान लेखपाल उसके घर पर आ गया और उसके साथ जबरन बलात्कार किया, लेकिन उसी दौरान उसका पति भी आ गया, जिसके बाद मामले का खुलासा हो गया और महिला ने अपने साथ हुए यौन उत्पीडऩ की कहानी अपने पति से बया कर दी, जिसके बाद उसके पति ने आरोपी लेखपाल की पिटाई कर उसे पुलिस के हवाले कर दिया। 

पीडि़त महिला के अनुसार उसकी शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ  मुकदमा न दर्ज कर तहसील के उच्च अधिकारियों दबाव में उलटे उसके पति के खिलाफ  धारा -332 , 353 ,504 ,394 के तहत मुकदमा दर्ज करवा दिया। बलात्कार की शिकार महिला का आरोप है कि वो घटना के बाद से पुलिस और तहसील के अधिकारियों से मदद और अपनी रिपोर्ट दर्ज करवाने के लिए दौड़ती रही, लेकिन उसकी एफआईआर लिखवाना तो दूर पुलिस ने उसका मेडिकल परीक्षण तक भी नहीं करवाया। थक हार कर उसने न्यायलय की शरण ली जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर आरोपी लेखपाल के खिलाफ  मुकदमा दर्ज कर पुलिस जाँच करवाने की बात कह रही है। 
उधर, आरोपी लेखपाल अपनी सफाई में खुद को पाक साफ़  दिखाने की कोशिश में लगा है। उसका कहना है कि पैमाइश के सिलसिले में वो महिला के गांव गया था, जिसके बाद महिला के पति ने उसे अपने घर ले जाकर बेवजह मारा पीटा, जिसकी उन्होंने थाना जैदपुर में एफआईआर भी दर्ज करवाई है। आरोपी लेखपाल सफाई देकर भले ही खुद को निर्दोष साबित करने में लगा हो लेकिन मामले की जांच कर रही पुलिस आरोपी लेखपाल और महिला से हुए मोबाइल फ़ोन की बातचीत से दूध का दूध और पानी का पानी करने का दावा कर रही है। सवाल तो ये भी है कि आखिर जमीन की पैमाइश करने के दौरान लेखपाल क्यों महिला के घर गया? तमाम ऐसे सवाल हैं जिनका आरोपी लेखपाल उत्तर देने में जरूर चक्कर खा रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned