जानिए आखिर किन कारणों से स्कूलों में घटी बच्चों की उपस्थिति

ajay shrivastav

Publish: Apr, 21 2017 02:05:00 (IST)

Bastar, Chhattisgarh, India
जानिए आखिर किन कारणों से स्कूलों में घटी बच्चों की उपस्थिति

ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले विद्यार्थी अभी भी अपने आप को नए नियमों के तहत नहीं ढाल पाए हैं, वे परीक्षा के बाद सीधे घर चले जाते हैं और जून में ही आते हैं

जगदलपुर . पिछले सत्र से शासकीय स्कूलों में अप्रेल से ही कक्षाएं संचालित हो रही हैं, 2016 की तरह ही 2017 में भी अप्रेल माह में विद्यार्थियों की उपस्थिति बहुत कम है, इससे शिक्षक भी चिंतित है। सभी कक्षाओं में आधे विद्यार्थी भी नही आ रहे हैं।

सत्र की शुरुआत 15 जून से होती थी
ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले विद्यार्थी अभी भी अपने आप को नए नियमों के तहत नहीं ढाल पाए हैं, वे परीक्षा के बाद सीधे घर चले जाते हैं और जून में ही आते हैं। 2015 तक सत्र की शुरुआत 15 जून से होती थी, ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों में यह आदत अब भी नहीं बदल पा रही है। वहीं दूसरी ओर शहर में गर्मी भी बढ़ गई है, इस वजह से भी कई छात्र स्कूल नहीं आ रहे हैं। स्कूलों में आधे से भी कम विद्यार्थी उपस्थित हो रहे हैं।

यह स्थिति शहर के स्कूलों में भी
जिससे विद्यार्थियों का पढ़ाई भी बर्बाद हो रहा है। यह स्थिति ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूल ही नहीं शहर के स्कूलों में भी है। हॉस्टलों से विद्यार्थी चले जाते हैं। हालाकि इस बार अधिकांश छात्र हॉस्टल में हैं। बस्तर हाई स्कूल में 9 वीं और 11 वी की पूरक परीक्षाएं भी चल रही है और आेपन की परीक्षाएं भी हो रही है। जिससे बैठक क्षमता नहीं होने से शहर के स्कूल में विद्यार्थी गुरुवार को तो स्कूल पहुंचे थे, लेकिन कक्षा समाप्त होने के पहले ही चले गए थे। वहीं विवेकानंद स्कूल में 12 वीं में तो छात्रों की संख्या अच्छी थी, लेकिन 9 वीं में बहुत कम छात्र उपस्थित थे।  30 अप्रेल तक कक्षाएं संचालित होंगी। इसके बाद 1 मई से ग्रीष्म अवकाश शुरू होगा।

ग्रामीण स्कूलों बिजली भी नहीं होती
विद्यार्थियों के स्कूल नहीं आने की दूसरी वजह गर्मी का लगातार बढऩा भी हो सकता है। तापमान 40 के पार चला गया है, कई ग्रामीण स्कूलों बिजली भी नहीं होती है। जिससे उनका अध्ययन भी प्रभावित होता है। बीईओ अरूण देवांगन ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूल में  उपस्थिति कम है। शहर के स्कूलों में उपस्थिति अच्छी है। ग्रामीण विद्यार्थी अभी नई व्यवस्था के अनुसार अपने आप को ढाल नहीं पाए हैं, उपस्थिति के मामले में पिछले साल से अच्छी स्थिति है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned