मंदिरों से निकलने वाले कचरे से बनाएंगे जैविक खाद

Devendra Karande

Publish: May, 19 2017 08:50:00 (IST)

betul
मंदिरों से निकलने वाले कचरे से बनाएंगे जैविक खाद

मंदिरों से निकले वाले कचरे का इस्तेमाल अब जैविक खाद बनाने के लिए किया जाएगा। कचरे के उचित निष्पादन के लिए नगरपालिका ने मंदिरों को पूर्ण सहयोग प्रदान करने का निर्णय लिया।  शुक्रवार को स्वच्छ भारत अभियान के तहत गंज माता मंदिर में सफाई अभियान के दौरान यह बात नगरपालिका अध्यक्ष अलकेश आर्य ने की।

बैतूल।मंदिरों से निकले वाले कचरे का इस्तेमाल अब जैविक खाद बनाने के लिए किया जाएगा। कचरे के उचित निष्पादन के लिए नगरपालिका ने मंदिरों को पूर्ण सहयोग प्रदान करने का निर्णय लिया।  शुक्रवार को स्वच्छ भारत अभियान के तहत गंज माता मंदिर में सफाई अभियान के दौरान यह बात नगरपालिका अध्यक्ष अलकेश आर्य ने की। उन्होंने बताया कि मंदिर प्रांगण में सफाई के दौरान यह देखने में आया कि श्रद्धालु मंदिर में चढ़ावे के लिए कई तरह की सामग्री लेकर आते है। जिसे बाद में यहां-वहां फैंक दिया जाता है। इससे न सिर्फ गंदगी फैलती है बल्कि सडऩ मारने पर बदबू भी आती है। इन समस्याओं को देखते हुए हमने यह निर्णय लिया है कि मंदिर  से निकलने वाले कचरे से खाद का निर्माण मंदिर प्रांगण में ही किया जाएगा। इसकी शुरूआत गंज माता मंदिर से की जाएगी। मंदिर के साइड में बने बगीचे में जैविक खाद के निर्माण के लिए एक बड़ा गड्ढा खोदा जाएगा। जिसमें मंदिर से निकलने वाले जैविक कचरे को उसमें डाला जाएगा। यह कचरा कुछ दिनों बाद खाद में तब्दील हो जाएगा। इसका इस्तेमाल मंदिर प्रांगण के पेड़ पौधों में डालने तथा कृषि आदि कार्य के लिए भी हो सकता है। नपा अध्यक्ष आर्य ने बताया कि स्वच्छ अभियान के तहत आने वाले सप्ताहों में अन्य मंदिरों में इसी तरह से सफाई अभियान रखकर वहां मौजूद कचरे का निष्पादन जैविक खाद बनाने के लिए किया जाएगा। उल्लेखनीय हो कि नगरपालिका द्वारा बीते ढाई सालों से शहर में प्रति शुक्रवार को स्वच्छता अभियान को चलाए हुए है। अभियान के तहत बड़ी संख्या में लोग इससे जुड़ रहे हैं। चूंकि कचरे का निष्पादन वैज्ञानिक पद्धति से किया जाना है इसलिए सफाई अभियान के दौरान नपाध्यक्ष द्वारा इस अभिनव प्रयास की शुरूआत की गई है। ताकि जिन स्थानों पर ज्यादा जैविक कचरा निकलता है वे इसका इस्तेमाल खाद बनाने के लिए कर सके। आज चले सफाई अभियान के दौरान नगरपालिका के अधिकारीगण, पार्षदगण सहित रहवासी भी मौजूद थे। 
80 साल की बुजुर्ग महिला ने भी थामी झाडू
मंदिर प्रांगण में पहली बार चले स्वच्छता अभियान से पे्ररित होकर 80 वर्ष बुजुर्ग अनुसुईयां बडमरे ने भी अपने हाथों में झाडू थाम ली और सफाई अभियान में जुट गई। उनकी सेवा भावना देखकर सभी काफी प्रभावित हुए। जिसके बाद पूरे प्रांगण का कचरा चंद मिनटों में ही साफ हो गया। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned