यहां हर विधानसभा में दांव पर एक पूर्व मंत्री की प्रतिष्ठा

Bhadohi, Uttar Pradesh, India
यहां हर विधानसभा में दांव पर एक पूर्व मंत्री की प्रतिष्ठा

भदोही में से रंगनाथ मिश्रा, ज्ञानपुर से रामरति बिंद और औराई से लड़ रहे हैं दीनानाथ भास्कर।

MAHESH JAYASWAL

भदोही. सूबे के अंतिम चरण में होने वाले चुनाव में भदोही जनपद की सभी विधानसभाओं में चुनाव लड़ रहे पूर्व मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। यहां हर विधानसभा में एक-एक पूर्व मंत्री चुनावी मैदान में ताल ठोंक रहा है और लोगों का मानना है कि अगर चुनाव लड़ रहे पूर्व मंत्रियों को सफलता मिली तो ये फिर मंत्री बनेंगे।



भदोही जनपद में कुल तीन विधानसभाएं है जिसमें भदोही, ज्ञानपुर और औराई सुरक्षित सीट है। भदोही विधानसभा पूरे विश्व में कालीन के लिए मशहूर है और पूरे जनपद में सबसे अधिक कालीनों का उत्पादन और निर्यात इसी क्षेत्र से होता है और यहां से पूर्व कैबिनेट मंत्री रंगनाथ मिश्रा बसपा से चुनावी मैदान में हैं। रंगनाथ मिश्रा 2007 में औराई विधानसभा से चुनाव जीतने के बाद बसपा की सरकार में माध्यमिक शिक्षा मंत्री बनाए गए थे। पूर्व में रंगनाथ मिश्रा भाजपा की सरकार में भी विधायक और मंत्री रहे हैं। भदोही सीट पर इनके खिलाफ सपा से विधायक जाहिद बेग, भाजपा से रविन्द्र नाथ त्रिपाठी और भाजपा के बागी निषाद पार्टी से चुनाव लड़ रहे डा. आरके पटेल से है। 



वहीं औराई सुरक्षित विधानसभा से बसपा के संस्थापक सदस्य और पूर्व मंत्री दीनानाथ भाष्कर भारतीय जनता पार्टी के प्रत्यासी के तौर पर चुनावी मैदान में हैं। वो चंदौली और भदोही से विधायक रह चुके हैं। भदोही में सपा से चुनाव जीतकर वो मंत्री भी बने। इस बार उनके खिलाफ सपा विधायक मधुबाला पासी और बसपा से बैजनाथ गौतम चुनाव लड़ रहे हैं।



वहीं ज्ञानपुर विधानसभा से चुनाव लड़ रहे रामरती विन्द पूर्व में विधायक, सांसद और मंत्री रहे हैं। वो योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रहे हैं।सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अचानक ज्ञानपुर से विधायक विजय मिश्रा का टिकट काट कर सात वर्षो से राजनीति से बाहर रहे रामरति विन्द को टिकट दे दिया। रामरति के खिलाफ विधायक विजय मिश्रा निषाद पार्टी से और बसपा से राजेश यादव, भाजपा से महेन्द्र विन्द सहीत कई चुनाव लड़ रहे हैं। इन सभी पूर्व मंत्रियों को लेकर लोगों का मानना है कि अगर यह इस बार भी सफल हुए और इनकी सरकार बनी तो इनका फिर से मंत्री बनना तय है लेकिन यह तो आने वाले 11 मार्च को ही तय होगा कि विधानसभा चुनाव में किसे सफलता मिली।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned