चंबल तट पर विराजेंगे 24 तीर्थांकर, लगेगा संतों का मेला 

Bhind, Madhya Pradesh, India
चंबल तट पर विराजेंगे 24 तीर्थांकर, लगेगा संतों का मेला 

जैन धर्म के 24 तीर्थांकर की प्रतिमाएं विराजमान कराने के लिए 30 नवंबर  से 5 दिसंबर तक  ऋषभदेव, जिनबिम्ब पंच कल्याणक प्रतिष्ठा महामहोत्सव विश्व शान्ति महायज्ञ, महामस्तकाभिषेक एवं गजरथ महोत्सव का आयोजन होने जा रहा है

भिण्ड. चम्बल तट पर विराजमान मरसलगंज गौरव आचार्य सौभाग्य सागर ने चम्बल तट पर विशाल महामृत्युजंय तीर्थ क्षेत्र का निर्माण कराकर जैन मंदिर बनवाने के लिए आधार शिला रखी । इस स्थान पर जहां पर जैन धर्म के 24 तीर्थांकर की प्रतिमाएं विराजमान कराने के लिए 30 नवंबर  से 5 दिसंबर तक  ऋषभदेव, जिनबिम्ब पंच कल्याणक प्रतिष्ठा महामहोत्सव विश्व शान्ति महायज्ञ, महामस्तकाभिषेक एवं गजरथ महोत्सव का आयोजन होने जा रहा है।

 महोत्सव के संदर्भ मेें मनोज जैन ने बताया इस कार्यक्रम 108  संत शामिल होंगे। गणाचार्य विरागसागर व आचार्य सूर्यसागर  आचार्य सुन्दरसागर , श्रमणाचार्य विनम्रसागर ससंघ, उपाध्याय तेजस्व सागर , मुनि शतारसागर संघस्थ, मुनि प्रगल्भसागर , मुनि सुतत्वसागर , मुनि स्वभावसागर व आचार्य सौभाग्य सागर व मुनि सुरत्नसागर का मंगल सानिध्य एवं मार्गदर्शन में कार्यक्रम चलेगा।

 30 नवम्बर को ध्वजारोहण एवं गर्भकल्याणक पूर्व रूप, 1 दिसंबर को गर्भकल्याणक उत्तर रूप, 2 दिसंबर को प्रात: 8  बजे जन्म कल्याणक व पाण्डुक शिला पर 1008  कलशों से जन्माभिषेक, 3 दिसंबर को तप कल्याणक तथा रॉयल म्युजिकल गु्रप द्वारा विशेष भजन संध्या मैजिक शो व नृत्य नाटिका, 4 दिसंबर को ज्ञान कल्याणक व भगवान को आहार तथा संगीतकार रूपेश जैन इन्दौर द्वारा भक्ति संध्या, 5 दिसंबर को निर्वाण कल्याणक एवं मुनि सुरत्नसागर का 13 वां मुनि दीक्षा दिवस समारोह तथा अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन का आयोजन होगा।


तैयारियां जोर शोर से प्रांरभ 
चम्बल तट पर 30 नवम्बर से 5 दिसम्बर तक होने वाले पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव की तैयारियां की जा रही हंै मंदिर स्थल पर चारों ओर साफ-सफाई एवं मंदिर का निर्माण कार्य जोर शोर से किया चल रहा है। संतों के ठहरने के लिए आवास व्यवस्था एंव चौका आदि की व्यवस्थाएं की जा रही है।


गणाचार्य विरागसागर का चंबल की ओर हुआ विहार
शहर के दिगंबर जैन चैत्यालय मंदिर में विराजमान गणाचार्य विराग सागर ससंघ का सोमवार को दोपहर बाद 4 बजे महामृत्युंजय तीर्थ क्षेत्र चम्बल की ओर बिहार हो गया। मनोज जैन ने बताया कि चंबल तट परे महामृत्युंजय तीर्थ क्षेत्र पर विराजमान आचार्य सौभाग्य सागर के सानिध्य मे 30 नवम्बर से 05 दिसम्बर तक होने वाले पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव मे गणाचार्य विराग सागर महाराज चतुर्विद संघ के साथ पहुंचेंगे। गणाचार्य संघ फूप नसिया मंदिर में रात्रि विश्राम कर मंगलवार प्रात: 8  बजे मानस्तंभ के अभिषेक  पश्चात चम्बल की ओर बिहार करेगा।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned