कोर्ट में चप्पलों से पिटता रहा एक वकील, जान बचाने छिपा एडीएम की कुर्सी के पीछे

Bhopal, Madhya Pradesh, India
  कोर्ट में चप्पलों से पिटता रहा एक वकील, जान बचाने छिपा एडीएम की कुर्सी के पीछे

बांसखेड़ी निवासी महेंद्र लोधी पेशे से वकील हैं और वह सोमवार को कोर्ट आए हुए थे। दोपहर में बांसखेड़ी की कुछ महिलाएं आईं और उनसे विवाद करने लगी। 

भोपाल। कहते हैं जब महिलाएं अपनी वाली पर आ जाएं तो उनका सामना करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाता है। ऐसा ही कुछ हुआ एक वकील के साथ, जिसे महिलाओं से बहस करना महंगा पड़ गया। विवाद इतना बढ़ा कि महिलाएं कोर्ट में ही चप्पल से वकील की धुनाई करने लगीं। हालात यह हो गई की वकील को एडीएम कोर्ट में जाकर अपनी जान बचानी पड़ी। पढ़ें क्या है यह रोचक माजरा


देखें वीडियो


ऐसे शुरू हुआ विवाद
बांसखेड़ी निवासी महेंद्र लोधी पेशे से वकील हैं और वह सोमवार को कोर्ट आए हुए थे। दोपहर में बांसखेड़ी की कुछ महिलाएं आईं और उनसे विवाद करने लगी। वह कोर्ट से निकलकर कलेक्ट्रेट आ पहुंचे, जहां महिलाओं ने उनको पकड़ लिया और जमकर मारपीट कर दी। महिलाएं इनती गुस्से में थीं कि जिसके हाथ में जो आया, वह उसी से मारपीट करने लगी। किसी के हाथ में चप्पल तो किसी के हाथ में पत्थर था। महिलाएं मारपीट करते हुए वकील को कलेक्ट्रेट के पोस्ट आफिस तक लेकर आ गईं। जहां वकील ने एडीएम नियाज खान के कोर्ट में घुस गया और अंदर से गेट बंद कर लिए। कर्मचारियों ने उसे पिटने से बचाया।

maarpeet

पुलिस बोली-जमीनी विवाद
इसको पुलिस भी शाम तक स्पष्ट नहीं कर पाई। अभद्र टिप्पणी पर महिलाएं भड़की थीं, लेकिन पुलिस ने बताया, जमीन के मामले को लेकर विवाद हुआ है। पुलिस के मुताबिक, बांसखेड़ी में विवादित एक जमीन को खरीदने को लेकर महिलाएं वकील के पास पहुंची थी। जबकि महिलाओं ने बताया, वह आय जाति प्रमाण पत्र बनवाने के लिए रात में घर पर बुला रहा था। 

maarpeet

कैंट थाने में चार महिलाओं पर केस 
उधर, वकील लोधी ने कैंट पुलिस से इस घटना की शिकायत की। जहां अनेक वकील भी पहुंचे। पुलिस ने शिकायत पर चार महिलाओं के खिलाफ मारपीट की धाराओं में केस दर्ज कर लिया। टीआई आशीष सप्रे ने बताया, वकील महेंद्र लोधी के साथ महिलाओं ने मारपीट की है। इस पर केस दर्ज किया है। महिलाओं की ओर से भी आवेदन आया है, उसकी जांच की जा रही है। महिलाओं का आरोप है, वकील ने आय जाति प्रमाण पत्र बनाने के नाम पर राशि ली थी। इसकी भी जांच की जा रही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned