डबल हो जाएगी अतिथि शिक्षकों की सैलरी, संविदा शिक्षकों के बराबर होगा वेतन

Bhopal, Madhya Pradesh, India
डबल हो जाएगी अतिथि शिक्षकों की सैलरी, संविदा शिक्षकों के बराबर होगा वेतन

मध्यप्रदेश के हजारों अतिथि शिक्षकों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है कि जल्द ही उनका वेतन बढ़ा दिया जाएगा। उन्हें संविदा शिक्षकों की तरह ही वेतन दिया जाएगा। इस प्रकार प्रदेश के 55 हजार अतिथि शिक्षकों का वेतन दोगुना हो जाएगा।


भोपाल। मध्यप्रदेश के हजारों अतिथि शिक्षकों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है कि जल्द ही उनका वेतन बढ़ा दिया जाएगा। उन्हें संविदा शिक्षकों की तरह ही वेतन दिया जाएगा। इस प्रकार प्रदेश के 55 हजार अतिथि शिक्षकों का वेतन दोगुना हो जाएगा। लोक शिक्षण संचालनालय के प्रस्ताव पर शिक्षा विभाग जल्द ही बडा फैसला ले सकता है।


राज्य सरकार ने अतिथि शिक्षकों का वेतन दोगुना करने की तैयारी कर ली है। सरकार के लोक शिक्षण संचालनालय ने इस बारे में एक प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा है। हालांकि इस पर फिलहाल फैसला नहीं हो पाया है। सूत्रों की माने तो जल्द ही संविदा शिक्षकों के समान इन्हें भी मानदेय दिया जाएगा। जो दोगुना तक हो जाएगा।


दोगुना वेतन भी नाकाफी
प्रदेश में एक तरफ शासकीय कर्मचारियों को सातवां वेतनमान का लाभ दिया जा रहा है। एक कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक को जुलाई माह से बड़ा हुआ वेतन दिया जाएगा। ऐसे में प्रदेश के 55 हजार अतिथि शिक्षकों को फिलहाल 2400 रुपए में ही अपने और परिवार का भरण पोषण करना पड़ रहा है। अतिथि शिक्षकों का वेतन दोगुना करना भी नाकाफी है। क्योंकि जब मध्यप्रदेश सरकार के एक छोटे से कर्मचारी को 25 हजार से अधिक तन्ख्वाह मिलती है तो पांच हजार रुपए में एक परिवार का घर खर्च चलाना काफी मुश्किल है।


यह भी है खास
-अतिथि शिक्षकों का वेतन दोगुना करने पर राज्य सरकार पर डेढ़ सौ करोड़ रुपए का आर्थिक भार पड़ेगा।
-संविदा शिक्षक वर्ग-2 के स्थान पर पढ़ाने वाले अतिथि शिक्षक को 3600 रुपए के स्थान पर सात हजार रुपए मिलेंगे।
-संविदा शिक्षक वर्ग-1 के स्थान पर पढ़ाने वाले अतिथि शिक्षकों को 4320 के जगह पर नौ हजार रुपए मानदेय मिलेगा।
-वर्तमान में अतिथि शिक्षकों को दिन के हिसाब से 100, 150 और 180 रुपए दिए जाते हैं। इनकी माह में 24 दिन से अधिक हाजिरी नहीं होती है। कई बार तो छुट्टियां ज्यादा होने से भी कम राशि बनती है।


सात साल के बाद आगे बढ़ी बात
पिछले दस सालों से शासकीय स्कूलों में पढ़ाने वाले अतिथि शिक्षकों को सात साल बाद आंशिक सफलता मिली है। वे अपनी मांगों के लिए शिक्षा मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक से कई बार मांग कर चुके हैं।  अंततः सरकार ने मानदेय बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। इधर स्कूल शिक्षा विभाग के बारे में चर्चा करते हुए मंत्री विजय शाह ने विधानसभा में मानदेय बढ़ाने की घोषणा कर दी थी। इधर, स्कूल शिक्षा विभाग की सचिव दीप्ति गौड़ मुकर्जी कहती हैं कि अतिथि शिक्षकों के लिए जल्द ही निर्णय लिया जाएगा।



यह भी पढ़ें
teacher


यह भी पढ़ें


यह भी पढ़ें
primary school

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned