रेप के बाद 5 साल की बच्ची को छोड़कर भागा आरोपी, पिता को सड़क किनारे यूं मिली

Bhopal, Madhya Pradesh, India
रेप के बाद 5 साल की बच्ची को छोड़कर भागा आरोपी, पिता को सड़क किनारे यूं मिली

बच्ची को तकरीबन 5 इंच गहरा घाव आया है, जिसके चलते उसे हेवी पेन किलर डोज दिए गए। आरोपी की पहचान अभी भी पुलिस नहीं कर पाई है।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक बार फिर एक मासूम के साथ ज्यादती हुई है। इस बार 5 साल की एक बच्ची को किसी दरिंदे ने अपनी हवस का शिकार बनाया है। घटना राजधानी भोपाल के नजीराबाद थाना क्षेत्र की है, जहां पांच साल की एक बच्ची शनिवार की रात खून से लथपथ लावारिस हालत में मिली। जिस जगह ये बच्ची पाई गई है वो जगह उसके घर से महज आधा किमी दूर है।

बच्ची को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां पर उसकी हालत तीन बाद से खतरे से बाहर आई है, वहीं डॉक्टर्स अभी भी उसके क्रिटिकल ऑपरेशन की तैयारी कर रहे हैं। बच्ची को तकरीबन 5 इंच गहरा घाव आया है, जिसके चलते उसे हेवी पेन किलर डोज दिए गए। आरोपी की पहचान अभी भी पुलिस नहीं कर पाई है।

घटना शनिवार रात की है। भोपाल के नजीराबाद थाना इलाके में रहने वाले एक परिवार की 5 साल की बच्ची काफी देर से गायब थी। शनिवार रात करीब साढ़े 5 बजे ये बच्ची घर के बाहर दालान में अपनी बुआ और दादा दादी के साथ सो रही थी। रात करीब 12 बजे जब बच्ची की मां उसे लेने गईं तो बच्ची वहां से गायब थे। फौरन बच्ची को ढूंढने की कोशिश शुरू हुई, इसके साथ ही डायल 100 को भी बच्ची के गायब होने की सूचना दी गई। 

बच्ची की खोज में निकली डायल 100 की टीम को घटनास्थल से आधा किमी दूर रुनाहा गांव के सामने की तरफ वाले जंगल के किनारे से बच्ची बरामद हुई। बच्ची की हालत देखते ही पुलिस की टीम समझ गई कि बच्ची ज्यादती का शिकार हुई है। बच्ची के घरवालों को फौरन खबर दी गई, साथ ही बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। डॉक्टर्स की टीम ने बच्ची की क्रिटिकल हालत को देखते हुए फौरन इलाज शुरू कर दिया। 

वहीं डायल 100 की टीम भी वापस घटनास्थल लौटी और आरोपी के बारे में सुराग जुटानें में लग गई। आरोपी की पहचान नहीं हो पाई है, हालांकि पुलिस टीम का कहना है कि उसके हाथ कुछ सुराग लगे हैं। 

5 इंच के घाव के इलाज के लिए होगी 3 लेयर सर्जरी
मासूम को हमीदिया अस्पताल के पीडियाट्रिक सर्जरी वार्ड में भर्ती कराया गया है। उसका इलाज कर रहे डॉक्टर्स ने बताया कि उसके लिए वार्ड में अलग से इंसेंटिव केयर वार्ड बनाया गया है। उसमें एक नर्स 24 घंटे उसकी देखरेख कर रही है। उसे अभी भी इंफेक्शन बना हुआ है। एंटीबायोटिक दिए जा रहे हैं। करीब तीन दिन बाद पता चलेगा कि इंफेक्शन खत्म हुआ या नहीं। डॉक्टर्स के अनुसार मासूम का तीन लेयर में ऑपरेशन किया जा रहा है।

संदेहियों से पूछताछ, सीएम ने किया मदद का ऐलान
पुलिस ने गांव में डेरा डाल दिया है। वह 50 से अधिक संदेहियों से पूछताछ कर चुकी है, लेकिन दरिंदे का सुराग नहीं लगा। पुलिस को किसी करीबी व्यक्ति पर शक है। वहीं मासूम को मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद जिला प्रशासन ने दो लाख रुपए की आर्थिक मदद दी है। एडीएम हेडक्वार्टर दिशा नागवंशी सोमवार को हमीदिया अस्पताल पहुंचीं और परिजनों को चेक दिया। परिजनों और डॉक्टर्स से बच्ची के बारे में भी पूछा।

पुलिस को देखकर ही घबरा जाती है मासूम 
मासूम दहशत में है, इसलिए वह पुलिस को देखकर घबरा रही है। वह कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं है, इसलिए पुलिस भी उससे पूछताछ नहीं कर पा रही है। पुलिस का अनुमान है कि मासूम के कुछ बोलते ही आरोपी दंरिदे के बारे में क्लू मिल सकता है। हॉस्पिटल में महिला पुलिस सुरक्षा में तैनात है। हालांकि, अफसरों का कहना है कि मौके से पुलिस को कुछ सुराग मिले हैं, जिनकी तस्दीक कर रहे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned