बार बार होती रही चेन पुलिंग, हबीबगंज पर परेशान होते रहे यात्री

rishi upadhyay

Publish: Dec, 02 2016 01:59:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
बार बार होती रही चेन पुलिंग, हबीबगंज पर परेशान होते रहे यात्री

रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर वॉशेबल एप्रॉन के निर्माण कार्य के चलते 01 दिसंबर से 65 ट्रेनों के स्टॉपेज हबीबगंज स्टेशन पर किए जाने के पहले दिन ही 50 प्रतिशत ट्रेनों में चेन पुलिंग की गई।


भोपाल। रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर वॉशेबल एप्रॉन के निर्माण कार्य के चलते 01 दिसंबर से 65 ट्रेनों के स्टॉपेज हबीबगंज स्टेशन पर किए जाने के पहले दिन ही 50 प्रतिशत ट्रेनों में चेन पुलिंग की गई। सैकड़ों की संख्या में यात्री भोपाल स्टेशन के आगे ही या फिर निशातपुरा के आसपास ट्रेनों की चेनपुलिंग कर उतर गए।

गंभीर बात यह है कि यात्रियों की यह जल्दबाजी उनकी जान पर भारी पड़ सकती है। बगल के ट्रैक पर गुजर रही ट्रेनों की चपेट में आने से गंभीर दुर्घटनाएं हो सकती है। चेन पुलिंग करने वालों में अवैध रूप से बिक्री करने वाले वेंडर भी शामिल हैं।


जानकारी के अनुसार भोपाल स्टेशन पर पहुंचने वाली श्रीधाम एक्सप्रेस, पंजाब मेल जैसी ट्रेनों के तीन से चार बार तक चेन पुलिंग की गई। इनमें से अधिकांश यात्री निशातपुरा के आसपास उतर गए। इसके चलते कई ट्रेनें आधे घंटे तक की देरी से हबीबगंज स्टेशन पर पहुंची। आरपीएफ के अधिकारियों के अनुसार बेवजह चेन पुलिंग करने वाले यात्रियों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए शुक्रवार से अभियान चलाया जाएगा।


indian railway


हबीबगंज स्टेशन पर हावी रही अव्यवस्थाएं
हबीबगंज पर 75 ट्रेनों का पड़ाव बनाने के लिए व्यवस्थाएं नाकाफी रहीं। स्टेशन के दोनों छोर पर पार्किंग से लेकर यात्रियों के बैठने तक की सुविधा नदारद थी। प्लेटफार्म एक को छोड़कर अन्य जगह पर यूरिनल्स एवं शौचालयों की गंभीर समस्या है। 

शताब्दी सहित दर्जनों ट्रेनें लेट
पहले ही दिन नई दिल्ली-हबीबगंज शताब्दी दो घंटे, फिरोजपुर-सीएसटीएम पंजाब मेल तीन घंटे, मंगला एक्सप्रेस 02 घंटे, श्रीधाम एक्सप्रेस 03 घंटे, केरला एक्सप्रेस 03 घंटे, पातालकोट 02 घंटे की देरी से हबीबगंज पहुंची। 


नहीं पहुंचा रेलवे का स्टॉफ
सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि रेलवे का स्टॉफ ही हबीबगंज स्टेशन पर नहीं पहुंचा। पहले दिन हबीबगंज में तैनात स्टॉफ को व्यवस्थाएं संभालनी पड़ी। यहां तक की भोपाल स्टेशन के टीटीई स्टॉफ भी टिकट चेकिंग के लिए नहीं पहुंचे। सबसे अधिक समस्या ट्रेनों की देरी से आने वाले यात्रियों को उठानी पड़ी।

दरअसल यहां पर पदस्थ डिप्टी एसएस कॉमर्शियल ब्रोकेन ड्यूटी पर यानि शिफ्ट में काम कर रहे हैं। ऐसे में किसी ट्रेन के लेट हो जाने से उसके टिकट को अन्य ट्रेन पर स्वीकृत करने वाले अधिकारी ही स्टेशन पर नहीं मिले। इसे यात्रियों को भारी दिक्कत हुई। क्यों कि दर्जनों ट्रेनें गुरुवार को देरी से आईं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned