डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा, नर्सें हड़ताल पर, तड़प-तड़पकर मासूम ने दी जान

asif siddiqui

Publish: Jun, 20 2017 12:24:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा, नर्सें हड़ताल पर, तड़प-तड़पकर मासूम ने दी जान

जिला अस्पताल में मरीजों के परिजनों द्वारा डाक्टरों के मारपीट और अभद्रता के विरोध में डाक्टरों ने सामूहिक रूप से इस्तीफा दे दिया, वहीं नर्सें उनके समर्थन में हड़ताल पर चली गईं। परिणाम स्वरूप अस्पताल में एक मासूम ने तड़प-तड़पकर जान दे दी। 

राजगढ़/भोपाल। जिला अस्पताल में आए दिन डाक्टरों के साथ होने वाली मारपीट की घटनाओं के बाद डॉक्टरों ने विरोध स्वरूप सामूहिक रूप से इस्तीफा दे दिया। वहीं अस्पताल की नर्स स्टाफ भी डाक्टरों के पक्ष में हड़ताल में शामिल हो गईं। इसके परिणाम स्वरूप इलाज न मिलने से एक बच्चे की मौत हो गई। जबकि प्रसूता की हालत गंभीर बनी हुई है। 

इलाज के लिए आए, मौत मिली
हड़ताल के बीच प्रसव के दौरान एक बच्चे की जान चली गई। महिला व्यावरा से रेफर होकर आई थी। यहां आने पर पता चला कि डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया है और नर्सें हड़ताल पर चली गई हैं। इसके चलते सही इलाज नहीं मिलने पर नवजात को जान से हाथ धोना पड़ा। परिजन अस्पताल में दहाड़े मारकर रोते रहे लेकिन किसी पर इसका असर नहीं हुआ। 
 
प्रशिक्षित स्टाफ चला रहा अस्पताल
अस्पताल में ओपीडी का समय शुरू हो गया है, लेकिन जिला चिकित्सालय में कोई भी डॉक्टर नही आया। ऐसे में सिविल सर्जन ने अप्रशिक्षित स्टाफ को व्यवस्थाओं में लगा दिया है और खुद के साथ सीएचएमओ ओपीडी के बाहर गंभीर मरीजों को देख रहे हैं। 

यहां वहां भटकते रहे मरीज
मरीज अस्पताल में आना शुरू हो गए हैं और ओपीडी में डॉक्टर नही होने से मरीज उनकी तलाश में यहां वहां भटक रहे हैं। अभी जिला चिकित्सालय में ही करीब 300 से ज्यादा मरीज भर्ती है। इन मरीजों के फालोअप में भी परेशानी आ रही है। कुछ वरिष्ठ नर्सों के ऊपर पूरे अस्पताल की जिम्मेदारी आ गई है। 

हो रहे हैं प्रयास
- डॉक्टरों को समझाने का प्रयास किया जा रहा है कि वे अपना निर्णय बदलें, फिलहाल डॉक्टरों में से कोई भी आया नहीं सो सीधा संवाद नहीं हुआ।
यस यदु, सिविल सर्जन राजगढ़

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned