आज से शनि की नजर रहेगी आप पर, जाने क्या होगा असर

rishi upadhyay

Publish: Jun, 20 2017 12:31:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
आज से शनि की नजर रहेगी आप पर, जाने क्या होगा असर

 20 जून 2017 दिन मंगलवार को धनु राशि से वृश्चिक राशि मे प्रवेश करेंगे। उन्होंने बताया कि वृश्चिक राशि मे शनि देव 24 अगस्त 2017 को पुन: मार्गी गति प्रारम्भ करेंगे, जहाँ कार्तिक शुक्ल पक्ष पंचमी 23 अक्टूबर 2017 दिन सोमवार तक विद्यमान रहेंगे।

भोपाल। ग्रहों में न्यायधीश माने जाने वाले ग्रह शनि २० जून से अपनी चाल में परिवर्तन कर रहे हैं। भ्रमण के क्रम में देवगुरु बृहस्पति की राशि धनु में से वक्री गति से मंगल की राशि वृश्चिक में जाएंगे। अपने स्वाभाविक संचरण के क्रम में शनि लगभग ढाई वर्ष एक राशि मे विद्यमान रहते हैं। इस दौरान इनकी गति मार्गी एवं वक्री होती रहती है। इसी संचरण के क्रम में शनि धनु राशि से वक्री गति से पराक्रम ,पौरुष कारक ग्रह मंगल की राशि वृश्चिक में प्रवेश करेंगे। इसका असर आपकी राशि पर भी पड़ सकता है।

ज्योतिषाचार्य आनंद शर्मा कहत हैं कि इससे पूर्व शनि अपनी मार्गी गति से वृश्चिक राशि से धनु राशि मे 26 जनवरी 2017 को प्रवेश किये। जहां पर 6 अप्रैल 2017 दिन गुरुवार तक अपनी मार्गी गति में परिवर्तन कर वक्र गति से यात्रा करने लगे। इसके बाद 20 जून 2017 दिन मंगलवार को धनु राशि से वृश्चिक राशि मे प्रवेश करेंगे। उन्होंने बताया कि वृश्चिक राशि मे शनि देव 24 अगस्त 2017 को पुन: मार्गी गति प्रारम्भ करेंगे, जहाँ कार्तिक शुक्ल पक्ष पंचमी 23 अक्टूबर 2017 दिन सोमवार तक विद्यमान रहेंगे।

देखें राशियों पर असर

मेष - इस राशि वालों के लिए शनि राज्य एवं आय का कारक होकर अष्टम स्थान में होने से पैर में चोट या दर्द ,वाणी में तीव्रता ,आय के साधनों एवं परिश्रम में अवरोध कर सकता है। 
वृष- वृष राशि वालो के लिए प्रभुत्व एवं सम्मान में वृद्धि ,परंतु परिश्रम के फल को कम करेगा। 

मिथुन- इस राशि वालो के लिए शनि अष्टम एवं भाग्य का कारक होकर शत्रुभाव में विद्यमान रहने से शत्रु विजय, रोग का शमन, भाग्य में सामान्य अवरोध। आंखों की समस्या एवं खर्च में वृद्धि संभव। 
कर्क- सन्तान एवं विद्या क्षेत्र से कष्ट, आय में वृद्धि, प्रेम सम्बन्ध में वृद्धि।
सिंह - माता को चोट, आपरेशन या कष्ट, वाहन की क्षति या वाहन पर खर्च, सम्मान में वृद्धि, आन्तरिक समस्या अल्प के लिए संभव। 

कन्या- जातक के पराक्रम में वृद्धि, राजनीतिक सफलता या प्रगति, भाग्य वृद्धि, कन्धों में दर्द, क्रोध में वृद्धि, भाई को कष्ट। 
तुला- धन वृद्धि, वाणी में तीव्रता, पेट की समस्या, माता-पिता का सहयोग, वाहन का सुख। 
वृश्चिक- सुख के साधनों में वृद्धि, पराक्रम वृद्धि, स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहे, भाई-बन्धुओ के लिए थोड़ा कष्टकर।
धनु- इस राशि वालों के खर्च में वृद्धि ,आंख में इंफेक्शन या कष्ट, घबराहट, धनागम में सामान्य अवरोध।

मकर- आय वृद्धि, वाणी में तीव्रता, मन अशांत, सन्तान पक्ष से लाभ, आर्थिक लाभ की संभावना, नए व्यापार की शुरुआत। 
कुम्भ- इस लग्न वालों के लिए सरकारी नौकरी अथवा काम में सकारात्मक परिवर्तन होंगे। परिश्रम का लाभ, आन्तरिक डर, वाणी में तीव्रता रहेगी।
मीन- इस राशि वालों के पराक्रम में वृद्धि ,आय वृद्धि ,परन्तु खर्च की भी अधिकता होगी, स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहे, सन्तान पक्ष से कष्ट सम्भव। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned