आइब्रो माइक्रोब्लेडिंग देगी आपकी आईब्रो को मनचाहा लुक

Alka Jaiswal

Publish: Feb, 06 2017 03:11:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
आइब्रो माइक्रोब्लेडिंग देगी आपकी आईब्रो को मनचाहा लुक

इस परमानेंट सॉल्युशन का नाम है आईब्रो माइक्रोब्लेडिंग। इस तकनीक के द्वारा आईब्रो को मनचाहा लुक दिया जा सकता है।


भोपाल। अकसर पार्टी में जाने के लिए हम मेकअप पर ज्यादा ध्यान देते हैं जिसमें आईब्रो एक अहम हिस्सा होती हैं। वो आईब्रो ही होती हैं जो हमारी आंखों को और भी खूबसूरत बना देती हैं। लेकिन कई बार ये आईब्रो इतनी कम नज़र आती हैं कि इन्हें डार्क करने के लिए हमें कभी आईब्रो पेंसिल तो कभी अन्य तरीकों का इस्तमाल करना पड़ता है। लेकिन इसके बावजूद भी हमारी आईब्रो कई बार पतली नज़र आती है।

लेकिन अब इन पतले आईब्रो को सही करना का परमानेंट सॉल्युशन मिल चुका है जिससे कि अपनी आईब्रो को हमेशा के लिए मोटा और घना बनाया जा सकता है। इस परमानेंट सॉल्युशन का नाम है आईब्रो माइक्रोब्लेडिंग। इस तकनीक के द्वारा आईब्रो को मनचाहा लुक दिया जा सकता है। आइये जानते हैं आईब्रो माइक्रोब्लेडिंग से जुड़ी कुछ अहम बातें...


आईब्रो माईक्रोब्लेडिंग एक टैटू आर्ट है जिसमें मशीन के द्वारा नेचुरल हेयर को स्किन के अंदर इम्प्लांट किया जाता है और फिर सामान्य टैटू की तरह ही मशीन के द्वारा स्किन के अंदर रंगों को भरा जाता है। ये बाकी दूसरे टैटू की तरह हार्ड नहीं होता है।

पहले से कर लें तैयारी
इस ट्रीटमेंट के पहले बहुत सी सावधानियां बरतनी पड़ती हैं जैसे कि अगर आप ज्यादा ड्रिंक करते हैं और आपको एस्पिरिन या रेटिनॉल लेने की जरुरत है तो इस ट्रीटमेंट के एक हफ्ते पहले से ही ड्रिंक पीना बंद कर दें। इसका मुख्य कारण ये है कि रेटिनॉल के कारण ट्रीटमेंट के दौरान स्किन काफी पतली हो जाती है जिससे ब्लीडिंग होने का खतरा बढ़ जाता है।


ट्रीटमेंट के बाद रखना होगा खास ख्याल
इस ट्रीटमेंट को कराने के बाद आपको अपने फेस का खास ख्याल रखना होगा। ध्यान रखें कि ट्रीटमेंट के बाद आपकी स्किन मॉइश्चराइस्ड रहे। इसके साथ ही ख्याल रखें कि इस दौरान आप वर्कआउट भी कम करें जिससे कि पसीना कम निकले। कोशिश करें कि आप चेहरे को पानी से धोने से बचें।


शुरुआत में ऐसा हो सकता है असर
ट्रीटमेंट कराने के बाद आपको हल्की सूजन और लालपन का सामना करना पड़ सकता है लेकिन परेशान मत हों क्योंकि यह बिल्कुल सामान्य बात है। इसके साथ ही शुरुआत में आईब्रो थोड़ा ब्लैक नज़र आते हैं जिसका रंग कुछ दिनों बाद 30-40 प्रतिशत फेड हो जाता है। ट्रीटमेंट कराने के बाद आपको ध्यान देना होगा कि हर छह महीने में एक बार आपको अपनी आईब्रो का टचअप कराना जरूरी होगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned