12वीं में 75% अंक लाएं छात्र और आगे के प्रोफेशनल कोर्सेस की फीस भूल जाएं

Bhopal, Madhya Pradesh, India
12वीं में 75% अंक लाएं छात्र और आगे के प्रोफेशनल कोर्सेस की फीस भूल जाएं

नर्मदा सेवा यात्रा में सीएम शिवराज सिंह चौहान का ऐलान..., पहले 85 फीसदी अंक लाने वाले छात्रों की पढ़ाई का खर्च उठाने की थी घोषणा।


भोपाल। 12वीं कक्षा में 75फीसदी या उससे अधिक अंक लाने वाले छात्र-छात्राओं की उच्च शिक्षा का खर्च सरकार उठाएगी। यह ऐलान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देवास के तुरनाल में नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान रविवार को किया। 

उन्होंने स्पष्ट किया कि 75 फीसदी नंबर लाने वाले ये प्रतिभाशाली विद्यार्थी यदि डॉक्टरी, इंजीनियरिंग और अन्य प्रोफेशनल कोर्सेस में प्रवेश लेंगे, तो उनकी फीस सरकार भरेगी। यह व्यवस्था नए शिक्षण सत्र एक अप्रैल से लागू हो जाएगी। 



इससे पहले 12 जनवरी को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित छात्र पंचायत में सीएम ने घोषणा की थी कि जो छात्र-छात्राएं 12वीं में 85फीसदी अंक लाने के बाद देश के प्रीमियर संस्थानों में दाखिला लेंगे तो सरकार उनकी पूरी फीस भरेगी। तिब्बती बौद्ध गुरू दलाई लामा भी नमामि देवी नर्मदे यात्रा में विशेष तौर पर शामिल हुए। 



दो जुलाई को नर्मदा किनारे रोपेंगे करोड़ों पौधे:
मुख्यमंत्री ने नर्मदा यात्रा व नर्मदा संरक्षण के प्रयासों का जिक्र करते हुए कहा कि एक हजार किमी तक नर्मदा किनारे दोनों ओर पौधरोपण होगा। सरकार दो जुलाई को करोड़ों पौधे लगाएगी। उन्होंने लोगों से अपील की कि, आओ और पौधरोपण के लिए रजिस्ट्रेशन कराओ। आपका स्थान तय हो जाएगा।
 
नर्मदा में अस्थि विसर्जन न करें :
सीएम ने कहा, नर्मदा में पूजन सामग्री न डालंे। अस्थि विसर्जन भी करने की बजाए अंतिम संस्कार के बाद महज एक चुटकी राख ही बहाएं। 



दुराचारियों को फांसी दें:
शिवराज ने महिला सम्मान का संदेश देकर कहा, यह प्रस्ताव देता हूं कि विधानसभा व संसद मासूम बच्चियों के साथ दुराचार करने वालों को फांसी के फंदे पर लटका दे एेसा कानून लाएं।

शराबमुक्ति का संदेश:
शिवराज ने शराबमुक्ति का संदेश देते हुए कहा कि प्रदेश के लोग नशामुक्ति का संकल्प लें। 

तकनीक को खाया नहीं जा सकता: दलाई लामा 
वहीं इस दौरान यहां मौजूद तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने कहा, तकनीक का विकास अच्छी बात है, लेकिन तकनीक भोजन नहीं है। तकनीक को खाया नहीं जा सकता। ज्यादातर जीवन गांव व कृषि पर निर्भर है। इसलिए गांवों का विकास जरूरी है। 



भौतिक विकास स्थाई खुशी नहीं दे सकता, मन का सुख जरूरी है। इसलिए आधुनिक भारत में यह सोचने की जरूरत है कि मन को कैसे खुश रखा जाए। महिलाओं को विकास में भागीदारी देना चाहिए। यहां दलाई लामा ने बौधि यानी पीपल और सीएम शिवराज ने बरगद का पौधा रोपा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned