#Patrikaforeducation - इंटीरियर डिज़ाइनिंग में बनाएं करियर, कॉर्पोरेट वर्ल्ड से लेकर बॉलीवुड तक है स्कोप

Bhopal, Madhya Pradesh, India
#Patrikaforeducation - इंटीरियर डिज़ाइनिंग में बनाएं करियर, कॉर्पोरेट वर्ल्ड से लेकर बॉलीवुड तक है स्कोप

मौजूदा समय में लोगों के पास बहुत से करियर ऑप्शन मौजूद हैं, साथ ही बदल रहे ट्रेंड में आजकल युवा कुछ क्रिएटिव करना चाहते हैं जिसे कि वो अपना करियर भी बना सके और उसे एंजॉय भी कर सके।


भोपाल। मौजूदा समय में लोगों के पास बहुत से करियर ऑप्शन मौजूद हैं, साथ ही बदल रहे ट्रेंड में आजकल युवा कुछ क्रिएटिव करना चाहते हैं जिसे कि वो अपना करियर भी बना सके और उसे एंजॉय भी कर सके। ऐसे ही एक क्रिएटिव करियर ऑप्शन है इंटीरियर डिज़ाइनिंग जिसमें आप घर, ऑफिस, मॉल या फिर किसी भी प्रॉपर्टी को एक नया लुक दे देते हैं।

वैसे तो यह कोर्स खुद में एक स्पेशलाइज़ेशन है, लेकिन इसके अंतर्गत भी कई अन्य कैटेगरी है जैसे कि ऑफिस डिजाइनिंग, किचन डिजाइनिंग, रूम्स डिजाइनिंग, बिजनेस डिजाइनिंग और होम डेकोर। अगर आपको लग रहा है कि यह तो बहुत ही आसान काम है तो ऐसा नहीं है, यह काम काफी चुनौतीपूर्ण होता है।


इस बारे में भोपाल के शिद्दत इंटीरियर डेकोर के इंटीरियर डिज़ाइनर निखिल विश्वकर्मा और हिमानी गुप्ता का कहना है कि 'इसमें कोई शक नहीं है कि आज भारत में इंटीरियर डिजाइनिंग की सबसे ज्यादा डिमांड है। जिस तरह से शहर में रहने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है और जगह कम होती जा रही है, उसके देखते हुए मौजूद जगह का सही और ज्यादा से ज्यादा इस्तमाल बहुत ही जरूरी हो गया है। इसके साथ ही भारत में रहने वाले लोगों का लिविंग स्टैंडर्ड और युवा पीढ़ी की नई मानसिकता के कारण, इंटीरियर डिजाइन को अपनी एक अलग पहचान मिल चुकी है।'

इनकी होती है अहम भूमिका
शिखा बताती हैं कि एक इंटीरियर डिज़ानक किसी भी जगह को लुक देने में अहम भूमिका निभाता है। वह अपनी ट्रेनिंग, क्रिएटिविटी और अनुभव के आधार पर किसी भी जगह के स्पेस का सही तरीके से इस्तमाल कर उसे सुंदर लुक देता है। इसके लिए घर के रंग से लेकर वहां के फर्नीचर और पर्दे तक के फैसले भी वही लेता है।

इंटीरियर डिज़ाइनर प्लानिंग, कंस्ट्रक्शन, रेनोवेशन और डेकोरेशन पर खास ध्यान देता है। आज कल इंटीरियर डिज़ानर की डिमांड सिर्फ घरों को ही नहीं, बल्कि शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स, हॉस्पिटल, एयरपोर्ट, रेस्तरां, होटल, ऑफिस में भी काफी बढ़ गई है।


यहां है स्कोप
अकसर देखा जाता है कि सेलिब्रिटी और हाई प्रोफाइल लोगों के बीच इंटीरियर डिजाइनर की काफी डिमांड होती है। वो अपने बंगले और फार्म हाउस को खूबसूरत बनवाने के लिए इंटीरियर डिज़ाइनर को अच्छी पेमेंट भी करते हैं। आजकल लोगों इन चीज़ों पर इतना ध्यान देने लगे हैं कि वो अब किसी छोटी स्पेस को भी खुद डिज़ाइन करने की जगह प्रोफेशनल इंटीरियर डिज़ाइनर की मदद लेने लगे हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, लोग आज कल विभिन्न पार्टीज़ में डेकोरेशन के लिए भी इंटीरियर डिज़ानइनर्स को हायर करने लगे हैं। इसे देखते हुए ये कहा जा सकता है कि इंटीरियर डिज़ाइनर्स की मांग बढ़ती ही जा रही है।

इन स्किल्स की होती है जरूरत
अगर आप भी इंटीरियर डिज़ाइनर बनना चाहते हैं तो आपका ये जानना जरूरी है कि इसमें किन स्किल्स की जरूरत होती है। इंटीरियर डिज़ाइनिंग के लिए क्रिएटिविटी और टेक्नोलॉजी की समझ होना बहुत ही जरूरी है जिससे कि आप इस फील्ड में बेहतर तरीके से काम कर सकें। इसके साथ ही इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है इमेजिनेशन पावर होना जिससे कि आपके दिमाग में नए-नए आइडियाज़ आ सकें और आप उनको अप्लाई कर सकें।

दूसरी चीज़ जो जरूरी है वो है कि आप मार्केट में आने वाले हर नए ट्रेंड से अपडेट रहें। इसके साथ ही कस्टमर फ्रैंडली होना भी आपके काम के लिए बहुत ही जरूरी है।


ये चाहिए क्वॉलिफिकेशन
इंटीरियर डिजाइनिंग करने के लिए आप बारहवीं के बाद डिप्लोमा, डिग्री और सर्टिफिकेट कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं। अगर आप ग्रेजुएशन के बाद इस फील्ड में आना चाहते हैं तो भी आप पीजी डिप्लोमा या फिर डिग्री कोर्स कर सकते हैं। इस फील्ड में आपको विभिन्न कोर्स जैसे कि बैचलर इन इंटीरियर डिजाइन, बीए इन इंटीरियर आर्किटेक्चर एंड डिजाइन, डिप्लोमा इन इंटीरियर स्पेस एंड फर्नीचर डिजाइन, पीजी डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाइन जैसे कोर्स के ऑप्शन मिलते हैं।

यहां से कर सकते हैं कोर्स
इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीरियर डिजाइनर्स, नई दिल्ली
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीरियर एंड फैशन टेक्नोलॉजी, भुवनेश्वर
मैनेजमेंट एंड डिजाइन एकेडमी, नई दिल्ली
एमआईटी इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, पुणे

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned