ATM उगल रहे हैं नकली नोट, फौरन चैक करें कहीं आपके पास भी तो नहीं है नकली नोट

Bhopal, Madhya Pradesh, India
ATM उगल रहे हैं नकली नोट, फौरन चैक करें कहीं आपके पास भी तो नहीं है नकली नोट

नोटों की साइज, कागज व छपाई में अंतर लग है। इन पर केवल नोटों का सीरियल नंबर ही था। इसके आगे व पीछे के नंबर ऐक जैसे थे।


भोपाल। 8 नवंबर 2016 को हुई नोटबंदी के बाद 2000 और 500 के नए नोट मार्केट में आए। लोगों की सहूलियत को देखते हुए ये फैसला किया गया था, लेकिन नए नोटों के रिलीज होने के साथ ही एक बड़ी समस्या भी उभरकर सामने आई है। कहीं एटीएम से नोट मिसप्रिंट निकले तो कहीं नोटों के रंग निकलने की खबर सामने आई।

हाल ही में नोटों के मिसप्रिंट का नया मामला सामना आया है अशोकनगर जिले में, जहां के कदवाया में एक बैंक एटीएम से अधछपे चार 500 के नोट निकले हैं। खुद शाखा के मैनेजर ने भी नोटों पर संदेह जताया है। दरअसल, दो युवकों कदवाया के रंजीत यादव और मन्हेटी के बब्लू लोधी ने बुधवार को  एसबीआई एटीएम से रुपए निकाले तो दोनों के पास दो-दो नोट अधछपे निकले।




200 note



रंजीत ने बताया कि उन्होंने एटीएम से चार बार में 36 हजार 500 रुपए निकाले थे। आखिरी बार 6500 रुपए निकाले तो मशीन से 500 के दो नोट अधछपे निकले। ऐसा ही हुआ बब्लू लोधी के साथ जिन्होंने 40 हजार रुपए की निकासी की थी। उनके पास भी नोट अधछपे पहुंचे। दोनों ने इस बात की शिकायत मैनेजर पीके अहिरवार से की तो उन्होंने नोटों के नकली होने की आशंका जताई।

नोटों की साइज, कागज व छपाई में अंतर लग है। इन पर केवल नोटों का सीरियल नंबर ही था। इसके आगे व पीछे के नंबर ऐक जैसे थे।  पीके अहिरवार ने कहा कि एटीएम में स्टेट बैंक अशोकनगर से पैसा डाला जाता है। हम तो सिर्फ एटीएम को कनेक्टिविटी व लाइट देते हैं।

पैसा कब डल रहा है और कब निकाला जा रहा है,ये उनका ही मेटर है। दो लोग बिना छपे नोट लेकर आए थे, उन्हें अशोकनगर ब्रांच में जाने के लिए कहा है।

नए नोटों के लेकर इससे पहले भी कई बार रंग उड़ने या महात्मा गांधी का चित्र नहीं होने के मामले सामने आए हैं। ऐसे मामलों में आरबीआई के साफ निर्देश हैं कि यदि किसी ग्राहक को ऐसा नोट मिलता है, तो वो उसे बैंक से बदलवा सकता है। लेकिन मध्य प्रदेश में कई जगहों पर मिसप्रिंट नोटों को बदलने में बैंक भी आनाकानी करते नजर आए। 



bbc ban



हाल ही में पंजाब के जालंधर में एक टीचर के नोटों का रंग उड़ गया। इससे पहले पश्चिम बंगाल में भी कुछ ऐसे ही मामले सामने आए, लेकिन मध्य प्रदेश की बात करें तो लगभग हर हफ्ते ऐसे मामलों के खुलासे हो रहे हैं। ऐसे में ये जरूरी है कि एक बार आप भी नोटों को जांच कर देख लें कि कहीं आपके किसी नोट में ऐसी समस्या तो नहीं आ रही है, क्योंकि यदि ऐसा होता है तो आप को भी नोट बदलवाने में परेशानी हो सकती है।

सनावद में निकले थे 500 के मिसप्रिंट नोट
19 फरवरी को स्टेट बैंक के एक एटीएम से रुपए निकालने पर दो 500 रुपए के मिस प्रिंट नोट निकले। इसे देख ग्राहक भी चौंक गए क्योंकि संभवत: नगर में नोटबंदी के बाद इस तरह का यह पहला मामला है। जब इसकी शिकायत ग्राहक ने बैंक से की तो नोट बदलने की जगह उल्टा बैंक अधिकारियों ने उसे वापिस लौटा दिया।

अधिकारी बोले ये नोट जहां से निकाले हैं वहीं ले जाओ। इसका हम क्या कर सकते हैं। यह सुनकर ग्राहक भी सन्न रह गया, क्योंकि जब बैंक ने ही नोट बदलने से इनकार कर दिया तो अब जाएं कहां। जबकि आरबीआई ने ऐसे नोटों को बदलने के निर्देश बैंकों को दिए हैं।




insurance papers



खरगौन में निकला एक तरफ छपा नोट
इसी साल फरवरी के महीने में खरगौन जिले के ही सेगॉन गांव में एक एटीएम से एक तरफ से बिना छपे हुए 500 रुपए के नए नोट निकले। इससे पहले भी 2000 रुपए के नए नोटों पर महात्मा गांधी की तस्वीर नहीं छपे होने की खबरें आई थी। हेमंत सोनी नाम का युवक ने सेगॉन गांव में लगे एक एटीएम से 1500 रुपए निकाले। एटीएम से निकलने वाले तीन में से दो 500 नोट सिर्फ एक तरफ से छपे हुए मिले दूसरी तरफ से इन नोटों पर कुछ नहीं छपा था।

इसके बाद इसकी शिकायत युवक ने बैंक के अधिकारियों से की जिस पर बैंक अधिकारियों ने उसे आधे छपे नोटों की जगह सही नोट उपलब्ध कराए। बैंक प्रबंधन का कहना था कि ग्राहक की शिकायत के बाद हमने मिसप्रिंटेड नोटों को सही नोटों से बदल दिया है। उन्होंने यह स्पष्ट किया की आधे प्रिंट किए हुए नोट रिजर्व बैंक से प्राप्त हुए थे। 

श्योपुर में बैंक ने लेने से मना किया था मिसप्रिंटेड नोट
साल की शुरुआत में ही मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में बड़ोदा तहसील में भी ऐसा हो चुका है। यहां के एक गांव में कुछ किसान बैंक से नोट निकालने पहुंचे तो उन्हें अपने नोटों पर गांधीजी गायब नजर आए। गांधीजी के गायब होते ही किसानों ने फौरन बैंक को इस बात की सूचना दी। मामले की जानकारी मिलते ही बैंक भी हैरान रह गया कि आखिर ऐसा हुआ कैसे।

बड़ौदा तहसील के बिच्छुखेड़ी गांव के लक्ष्मण मीणा और काडूखेड़ी के रहने वाले गुरमीत सिंह बैंक से 8-8 हजार रुपये निकालने एसबीआई ब्रांच पहुंचे थे। दोनों किसानों को बैंक ने दो-दो हजार रुपये के चार-चार नोट दिए। इन्होंने 2000 रुपये के नोट नहीं देखे और कैशियर से ये नोट ले लिए।

नोटों को नकली मानकर दोनों किसान अंदर गए और नोट पर से गांधीजी के गायब होने की बात बताई। नोट देखकर पहले तो बैंक कर्मी भी हैरान रह गए। क्योंकि इस तरह का ये मामला उनके सामने आया था। बाद में बैंक मैनेजर ने बताया कि किसी प्रिंटिंग मिस्टेक की वजह से ऐसा हुआ होगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned