भोजन बनाने वाले खेत पर गये, आज भूखे रहे 30 बच्चे

sanjana kumar

Publish: Feb, 16 2017 05:17:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
भोजन बनाने वाले खेत पर गये, आज भूखे रहे 30 बच्चे

स्कूलों और आंगनबाड़ियों में बच्चों के साथ क्या मज़ाक हो रहा है इसकी बानगी मिली कुरवाई के सलेतरा गाँव में...

गोविन्द सक्सेना@भोपाल/विदिशा।

स्कूलों और आंगनबाड़ियों में बच्चों के साथ क्या मज़ाक हो रहा है इसकी बानगी मिली कुरवाई के सलेतरा गाँव में। यहाँ के शासकीय प्राथमिक शाला और आंगनबाड़ी में आज गुरुवार को भूखा रहना पड़ा। भूखे बच्चे वापस घर लौटे। आंगनबाड़ी में तो पोषण आहार का एक दाना तक बच्चो को नही मिला। फिर स्वच्छता अभियान के ढिंढोरे के बीच स्कुल और आंगनबाड़ी के द्वार पर ऐसी गन्दगी की अच्छा खासा बच्चा बीमार हो जाये। 

स्लेतरा के शाला भवन में ही आंगनबाड़ी और स्कुल दोनों संचालित हैं। यहां असंगनबाड़ी में दर्ज 27 बच्चो में से 4-5 बच्चे ही मौजूद थे। बच्चो को भोजन मिला? ये पूछने पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता  चंद्रवती और सहायिका ममता लोधी ने जवाब दिया की आज खाना नही मिला, क्योंकि खाना बनाने वाली खेत गई है। नाश्ता भी नही मिला। बच्चो को पैकेट बन्द पोषण आहार भी इस माह में कभी नही बटा। पोषण आहार है ही नही। बच्चे आये थे, लेकिन कुछ खाने को है ही नही तो कहाँ से खिलाते। 


स्कूल प्रभारी  रियाज़ खान से भी पूछा की बच्चों का मध्यान्ह भोजन कहाँ बन रहा है। वे बोले बनता तो यहीं है लेकिन आज खाना बनाने वाला कोई नही है, इसलिए बच्चो को खाना नही मिलेगा। इस स्कुल में  16 बच्चे और आंगनबाड़ी में 27 बच्चे दर्ज है। लेकिन किसी को आज खाने के नाम पर एक दाना तक नही मिला। 


2 बच्चे गम्भीर कुपोषित
कार्यकर्ता ने बताया कि गाँव के 2 बच्चे अत्यंत कम वजन के गम्भीर कुपोषित हैं। इनमें से एक सुमित ढाई साल का और गुड्डी 3 माह की है। इस केंद्र पर सितम्बर के बाद से कोई सुपरवाइजर तक नही पहुंची।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned