बड़े पैमाने पर मंदसौर आएंगे देशभर के किसान, फिर उग्र हो सकता है आंदोलन

Bhopal, Madhya Pradesh, India
बड़े पैमाने पर मंदसौर आएंगे देशभर के किसान, फिर उग्र हो सकता है आंदोलन

मध्यप्रदेश में भड़की किसान आंदोलन की आग भले ही थम गई है, लेकिन इसकी चिंगारी अभी भी सुलग रही है। देशभर के किसानों के 130 संगठन के लोग गोलीकांड के ठीक एक माह बाद मंदसौर में जमा होने वाले हैं।


भोपाल। मध्यप्रदेश में भड़की किसान आंदोलन की आग भले ही थम गई है, लेकिन इसकी चिंगारी अभी भी सुलग रही है। देशभर के किसानों के 130 संगठन के लोग गोलीकांड के ठीक एक माह बाद मंदसौर में जमा होने वाले हैं। यहां से दिल्ली के जंतर-मंतर तक और बिहार के चंपारण तक जनजागृति यात्रा निकाली जाएगी। किसान संगठन बड़े पैमाने पर इसकी तैयारी कर रहे हैं।

दिल्ली में हाल ही में 130 किसान संगठनों की बैठक में कई फैसले लिए गए। इसमें फैसला लिया गया कि वे 6 जुलाई को मंदसौर में जमा होंगे और किसान जनजागृति यात्रा निकालेंगे। किसान संगठनों का मानना है कि यह चिंगारी अब पूरे देशभर में फैलाई जाएगी। सूत्रों का मानना है कि ये किसान पूरे देशभर में किसान आंदोलन फैलाने की बड़े पैमाने पर तैयारी कर रहे हैं। कई लोगों को आशंका है कि किसान आंदोलन पहले से भी उग्र हो सकता है।

यह है किसान आंदोलन का कार्यक्रम
-किसान 21 जून को योग दिवस के मौके पर शवासन करेगा।
-गांव, तहसील, जिला मुख्यालय में किसान सामूहिक रूप से सुबह 7:00 बजे से शवासन करेंगे।
-3 जुलाई को नीति आयोग का घेराव और जन्तर मन्तर पर अनिश्चितकालिन धरना।
-6 जुलाई को किसान जनजागृति यात्रा निकाली जाएगी।
-यह यात्रा चंपारण किसान आंदोलन की 100वीं वर्षगांठ पर बिहार के चंपारण में समाप्त होगी।
-9 अगस्त को बड़े पैमाने पर जेल भरो आंदोलन होगा।

यह है किसानों की मांगें
-सभी किसानों की कर्जा माफी और फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एसएमपी) की लागत का डेढ़ गुना करना।
- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी एक ज्ञापन दिया जाएगा। यात्रा और इसके आगे का आंदोलन सिर्फ कर्ज माफी और लागत से डेढ़ गुना कीमत देने पर फोकस रहेगा। सरकार यदि बातचीत करती है तो इससे कम पर कोई समझौता नहीं होगा।

देशभर के किसान संगठन आएंगे मंदसौर
मंदसौर से निकाली जाने वाली यात्रा के लिए किसान संगठन के नेताओं की एक वर्किंग कमेटी बनाई गई है। जिसमें महाराष्ट्र के सांसद राजू शेट्टी, पूर्व सांसद हन्नान मोल्लाह (अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव), तमिलनाडु के अय्याकन्नू (तमिलानाडु किसानों के नेता, जिन्होंने 40 दिनों तक जंतर मंतर पर धरना दिया था), कर्नाटक के चंद्रशेखर, मध्य प्रदेश के डा. सुनीलम, मध्य प्रदेश के केदार सिरोही (आम किसान यूनियन), राजस्थान के रामपाल जाट, कविता कुलकर्णी, पंजाब के डॉ़ दर्शनपाल, योगेंद्र यादव शामिल होंगे।


यह भी पढ़ें

shivraj singh on fast


यह भी पढ़ें

MP Mandsaur Kisan Andolan


यह भी पढ़ें
fanda tollnaka

यह भी पढ़ें

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned