MP में ऐसे भी संत, पहले अध्यात्म में कमाया नाम, अब जेल ही इनका घर

Bhopal, Madhya Pradesh, India
 MP में ऐसे भी संत, पहले अध्यात्म में कमाया नाम, अब जेल ही इनका घर

प्रदेश के संतों के नाम आध्यात्म ही नहीं बल्कि अपराध की दुनिया में भी मशहूर हुए हैं। इन संतों के ऊपर रेप, मर्डर और ब्लास्ट जैसे आरोप लगे हैं।

भोपाल। संत...नाम सुनते ही भगवा सूती कपड़े को तन पर लपेटे, चंदन का तिलक किए, गले में रूद्राक्ष डाले कोई बेहद सरल-स्वाभाविक स्वभाव वाले किसी व्यक्ति की छवि सामने आ जाती है। पर कई बार जो दिखता है वह होता नहीं हैं। मप्र में भी कई ऐसे संत हुए हैं जिन्हें आध्यात्म से अपराध तक पहुंचने में ज्यादा समय नहीं हुआ। हालांकि इनमें से कई अब तक आरोपी ही हैं, लेकिन अपराध के क्षेत्र से नाम जुड़ जाने के कारण इनकी छवि लोगों की नजरों में कुछ अलग ही है.. जानिए मप्र के ऐसे ही संतों की कहानियां जो आध्यात्म से शुरू हुए और अपराध के ग्रास में समा रहे हैं।



sant

अपनी शिष्या से किया दुराचार
भोपाल के उपनगर बैरागढ़ में विशाल आश्रम में रहने वाले संत लाल सांई अपनी शिष्या से दुराचार के मामले में आरोपी हैं। संत की एक शिष्या ने 17 सितंबर 2008 को भोपाल के महिला पुलिस थाने में बलात्कार एवं छेड़छाड़ की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। घटना के लगभग आठ माह बाद पुलिस के भारी दबाव के चलते लाल सांई ने 22 नवंबर 2008 को महिला थाने में आत्मसमपज़्ण कर दिया था।


sant

दुराचार का लगा था आरोप
महर्षि योगी संस्थान के संचालक और संरक्षक गिरीश वर्मा की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। उन पर उन्ही की एक महिला अनुयायी ने 15 साल तक दैहिक शोषण करने का आरोप लगाया था। साल 2012 में इस मामले में भोपाल महिला थाना में रिपोर्ट दर्ज हुई थी। इसके बाद गिरीश वर्मा पर राज्य महिला आयोग और पुलिस का इतना दबाव बना कि उन्हें आत्मसमपर्ण करना पड़ा था।



sant

इंदौर में धरे गए आसाराम
आसाराम बापू को कौन नहीं जानता। एक नाबालिक के साथ दुराचार करने के आरोप में वे पिछले लगभग दो सालों से जेल में हैं। उनके ऊपर हत्या, अपहरण, दुराचार जैसे कई संगीन आरोप लगे हैं। आसाराम को अब तक जमानत तक नसीब नहीं हुई है। उन्हें दो साल पहले इंदौर से गिरफ्तार किया गया था। मप्र में आसाराम की सबसे ज्यादा संपत्ति और आश्रम बने हैं।



sant

बम ब्लास्ट के आरोपों में घिरीं
साध्वी प्रज्ञा प्रदेश के भिंड जिले के कछवाहा गांव से ताल्लुक रखतीं हैं। प्रज्ञा को 2006 में मालेगांव में हुए बम ब्लास्ट के आरोप में 23 अक्टूबर 2008 में गिरफ्तार किया गया है। वे जब से गिरफ्तार हुईं हैं तब से अब तक एक बार भी जमानत नहीं पा सकीं। गौरतलब है कि ब्लास्ट की प्लानिंग साध्वी ने भोपाल में ही की थी। संघ प्रचारक सुनील जोशी की 27 दिसम्बर, 2007 को देवास में हत्या कर दी गई थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी की जांच में सामने आया है कि सुनील का प्रज्ञा के प्रति आकर्षण ही उनकी हत्या का कारण बना। प्रज्ञा को डर था कि कहीं सुनील मालेगांव ब्लास्ट का राज न खोल दें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned