5 किमी तक टाइगर के फोटो कैच कर लेगा ये 35 लाख का कैमरा

Brajendra Sarvariya

Publish: Mar, 20 2017 09:16:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
5 किमी तक टाइगर के फोटो कैच कर लेगा ये 35 लाख का कैमरा

वन विभाग द्वारा स्थापित किए जाने वाले इस कैमरे से केरवा चौकी और उसके आसपास का पांच किमी का इलाका जद में होगा।

भोपाल। पिछले दो सालों से भोपाल के कलियासोत-केरवा के जंगलों में बाघों के डेरा डालने के बावजूद वन विभाग की निगरानी से दूर केरवा चौकी और उसके आसपास के रिहायशी इलाके में अब आधुनिक खूबियों से लैस ई-आई कैमरे से नजर रखी जाएगी। वन विभाग केरवा चौकी में हाई डेफिनीशन का यह कैमरा लगाया जाएगा। लगभग 35 लाख रुपए कीमत के इस कैमरे की जद में पांच किमी का इलाका होगा। जिससे मेंढोरा, मेंढोरी सहित आधा दर्जन गांवों में बाघ की गतिविधि को देखा जा सकेगा।




इसलिए लगाना पड़ा कैमरा
वर्ष 2015 में बाघ टी-1 के कलियासोत-केरवा के जंगलों में डेरा डालने के बाद भी वन विभाग केरवा में स्थापित चौकी पर ही कैमरा नहीं लगा सका। दर्जनों शिकार और रिहाइशी इलाकों में बाघ के घुसने की कई घटनाएं इस दौरान हुई। 




इन इलाकों में घूम रहे टाइगर
वर्तमान में बाघ टी-121 और बाघिन टी-123 की उपस्थिति लगातार इन इलाकों में बनी हुई है। इनके द्वारा मवेशियों के शिकार की घटनाएं भी सामने आ रही हैं। एेसे में इस बात की प्रबल संभावना है कि ये दोनो बाघ रिहायशी इलाकों में प्रवश्ेा कर सकते हैं। वन विभाग के पास अभी इनकी गतिविधि पर नजर रखने का कोई पुख्ता इंतिजाम नही है। विभाग के कर्मचारी अभी भी पग माक्र्स, शिकार के अवशेष आदि से ही इनकी गतिविधि को पुख्ता करते हैं।




रात में भी दिन जैसा प्रभावी
वन विभाग द्वारा स्थापित किए जाने वाले इस कैमरे से केरवा चौकी और उसके आसपास का पांच किमी का इलाका जद में होगा। कैमरे की खासियत यह है कि यह दिन में काम करने के साथ ही रात में इंफ्रारेड रोशनी पर भी काम करता है। एेसे में इससे दिन और रात दोनों समय बाघों की गतिविधि पर इससे निगरानी रखी जा सकेगी।




इनका कहना है...
केरवा चौकी में जल्द ही ई-आई कैमरा लगाया जाएगा। इसके लिए प्रस्ताव बना कर भेजा गया है। बजट मिलते की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।
- एसपी तिवारी, कंजर्वेटर फॉरिस्ट भोपाल वृत्त

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned