मध्यप्रदेश में 'रोमियो' आजाद, 9 हजार युवतियों-महिलाओं को छेड़ा

Bhopal, Madhya Pradesh, India
मध्यप्रदेश में 'रोमियो' आजाद, 9 हजार युवतियों-महिलाओं को छेड़ा

मनचले 'रोमियो' इतने बेखौफ हो चुके कि वह महिलाओं को सरेराह छेड़छाड़ करने से नहीं कतराते, वहीं खाकी ने मौन धारण कर रखा है।

भोपाल। महिला अपराध के मामले में मध्यप्रदेश में साल दर साल हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। एक तरफ राज्य सरकार महिला अपराध पर नियंत्रण के लिए तरह-तरह के दावे करती है, दूसरी तरफ प्रदेश में बढ़ रहे इस अपराध से महिला सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं। 

राजधानी समेत प्रदेश भर में छेड़छाड़ के मामले इस कदर बढ़े हैं कि लड़कियों-महिलाओं का घर से निकलना मुश्किल हो गया है। खाकी ने मनचलों पर लगाम कसने के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए। 





हालात अब यह हो चुके कि यात्री वाहनों में अकेले चलने से लड़कियां डरने लगीं हैं। वहीं मनचले 'रोमियो' इतने बेखौफ हो चुके कि वह महिलाओं को सरेराह छेड़छाड़ करने से नहीं कतराते। खाकी मौन धारण कर रखा है। 



प्रदेश में महिला अपराधों का अंदाजा इसी से बात लगाया जा सकता है कि वर्ष 2016 में इस तरह के 55,530 मामले कायम हुए। मतलब हर रोज 152 महिलाएं अपराध की शिकार हुईं। यह आंकड़ा उनका है जो महिला चार दीवारी से निकलकर थाने पहुंच रही हैं। जबकि जानकारों का मानना है कि 60 फीसदी महिलाएं तो शिकायत ही दर्ज नहीं करातीं।




eve teasing in bhopal

हर रोज 24 युवतियां दर्ज करा रहीं मामले
प्रदेश भर में 2016 में अकेले छेड़छाड़ की 8856 घटनाओं के मामले पुलिस ने दर्ज किए। मतलब हर रोज 24 महिलाएं थाने में छेड़छाड़ की शिकायत दर्ज करा रही हैं। राजधानी में 2016 में 435 छेड़छाड़ की घटनाएं पुलिस ने दर्ज किए। राजधानी के आंकड़ों से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्र्रदेश के दूरवर्ती जिलों के हालात क्या होंगे।




मौत को लगा रहीं गले
राजधानी में तमाम घटनाएं ऐसी भी सामने आईं कि छेड़छाड़ की शिकार कई युवतियों ने मौत को गले लगा लिया। बावजूद हालात नहीं बदले। पुलिस उसी तरह गैरजिम्मेदारी से काम करती रही। जिससे मनचलों का दुस्साहस बढ़ता गया। अब हालात यह कि घर के अंदर घुसकर भी मनचले शरारत कर फरार हो रहे हैं।



eve teasing in bhopal


फैक्ट फाइल: महिला अपराध-2016

- 2016 में महिला अपराधों से जुड़े 55530 अपराध दर्ज हुए।

- 8856 मामले छेडछाड़ के हुए दर्ज।

- 3951 युवतियों से दुष्कर्म।

- 5474 मामले में युवतियों-महिलाओं के अपहरण के हुए दर्ज।

- भोपाल में 435 छेड़छाड़ की घटनाएं दर्ज हुई।





- 310 मामले में अपहरण के आए सामने।

- 228 दुष्कर्म के प्रकरण राजधानी पुलिस ने 2016 में दर्ज किए।

- हर रोज 152 अपराध मध्यप्रदेश में महिलाओं के विरुद्ध हो रहे हैं दर्ज।

- हर रोज मध्यप्र्रदेश में 24 मामले छेड़छाड़ के दर्ज होते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned