इंडियन आर्मी में सोशल मीडिया बैन नहीं, लेकिन ऐसे हैं कड़े नियम

Manish Gite

Publish: Jan, 14 2017 05:09:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
इंडियन आर्मी में सोशल मीडिया बैन नहीं, लेकिन ऐसे हैं कड़े नियम

मध्यप्रदेश के रीवा के रहने वाले इंडियन आर्मी के एक जवान को साहब का कुत्ता घुमाने और साफ-सफाई करने का वीडियो जारी होने के बाद मध्यप्रदेश में भी फौज में जवानों की ड्यूटी को लेकर बहस छिड़ी है।


भोपाल। साहब का कुत्ता घुमाने और उनके जूते चमकाने वाला इंडियन आर्मी का यह जवान मध्यप्रदेश के रीवा का रहने वाला है। जिसने आर्मी के भीतर के हालातों को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। पिछले 10 दिनों में ही यह तीसरा वीडियो है जो फौज के भीतर के हालात को बयां करता है। लेकिन,  जवानों को अपनी बात रखने के लिए सोशल मीडिया नहीं फौज के भीतर ही फोरम की व्यवस्था दी गई है। जिसे अपनी ड्यूटी पसंद नहीं वे बदलवा सकता है।

मध्यप्रदेश के रीवा के रहने वाले इंडियन आर्मी के एक जवान को साहब का कुत्ता घुमाने और साफ-सफाई करने का वीडियो जारी होने के बाद मध्यप्रदेश में भी फौज में जवानों की ड्यूटी को लेकर बहस छिड़ी है। एक के बाद एक यह सेना के भीतर के हालातों को दिखाता तीसरा वीडियो वायरल हुआ था।

बार्डर पर शहीद हो जाएं, लेकिन टॉयलेट साफ नहीं कराओ
देहरादून की 42 इंफेंट्री ब्रिगेड में पदस्थ लांस नायक यज्ञ प्रताप सिंह मध्यप्रदेश के रीवा निवासी हैं। सिंह की पत्नी ऋचा ने चिंता जाहिर की है कि जब से मेरे पति ने शिकायत की है उनकी कोई खोज खबर नहीं मिल रही है। ऋचा का कहना है कि चाहे मेरे पति बार्डर पर शहीद हो जाएं, लेकिन मेरे पति से साहब की चाकरी मत करवाओ। एक सैनिक को नौकरों की तरह घर में कपडे, जूते, बर्तन और टायलेट मत साफ करवाओ।

अफसरों ने दी है मेरे पति को फांसी पर चढाने की धमकी
ऋचा का आरोप है कि यज्ञ ने गुरुवार रात को बात की थी और एक घंटे बाद ही उनका मोबाइल जब्त कर लिया गया। दूसरे दिन उन्होंने दूसरे दिन किसी दूसरे नंबर से मुझसे बात की। वे धरने पर बैठे हैं। ऋचा ने बताया कि यज्ञ को उसके अफसरों ने फांसी पर चढ़ाने की धमकी दी है। मुझे उनकी जान की चिंता है।

समस्या रखने के लिए सेना में होता है एक फोरम
भोपाल के कर्नल रिटायर्ड हरिकिशोर दुबे का कहना है कि एक जवान या अफसर को सही फोरम पर अपनी परेशानी बतानी चाहिए। आर्मी के अफसरों और जवानों के लिए भी एक फोरम होता है जिसमें हर माह बैठक होती है जिसमें सभी से परेशानियां पूछी जाती हैं। जिसका निराकरण किया जाता है। यदि किसी को अफसर की ड्यूटी पसंद नहीं तो वह उस फोरम में अपनी बात रखता है तो उसकी ड्यूटी भी बदल दी जाती है। लेकिन, उस जवान ने सोशल मीडिया में यह वीडियो वायरल कर दिया।

आतंकी हमले के बाद बने थे ये नियम
कश्मीर के बारामूला स्थिति उरी सेक्टर में 2014 में आतंकी हमला हुआ था। इसके बाद आर्मी कैंप के व्हाट्स अप पर एक मैसेज वायरल कर दिया गया था। इसमें रीवा के जवान की ही तरह एक जवान ने अपने सीनियर अफसर पर कई गंभीर आरोप लगा दिए थे। इसके बाद सेना ने सोशल मीडिया के प्रयोग को लेकर कुछ नियम बना दिए। पिछले साल ही जुलाई में नया सर्कुलर जारी हुआ। जिसमें सैनिकों को उन नियमों के बारे में समझाइश दी गई थी जिसमें वे सोशल मीडिया का प्रयोग कर सकते हैं, लेकिन कुछ शर्तों के तहत।

यह है सोशल मीडिया पॉलिसी
सेना ने 'सोशल मीडिया पॉलिसी' भी बनाई है। 2015 में यह पालिसी आई थी। इसके बाद गृह मंत्रालय ने पिछले साल दिसंबर में नया आदेश जारी कर दिया। इसमें भी नए दिशा-निर्देश दिए गए थे। देशभर की पैरामिलिट्री फोर्सेज के लगभग 80 प्रतिशत जवानों के पास स्मार्ट फोन हैं।

1. सर्विंग ऑफिसर अथवा जवान सोशल मीडिया पर अकाउंट खोल सकते हैं।
2. जवान और ऑफिसर्स अपनी रैंक, पोस्टिंग की जगह, यूनिट और कॉर्प्‍स के बारे में कोई सूचना नहीं लिखेंगे।
3. ऐसी फोटो अथवा videos या मैसेज भी नहीं जारी करेंगे जो यूनिट, संसथान अथवा देश से जुड़ी खास जानकारी बताते हों।
4.सेना के कोई भी ऑपरेशन या प्‍लान के बारे में कोई जानकारी वायरल नहीं कर देगा।
5. किसी भी परिस्थितियों में पर्सनल और अपनी आफिशियल पहचान उजागर नहीं करेगा।
6. सेना का कोई भी जवान या अधइकारी अपनी रैंक, यूनिट, अप्‍वाइंटमेंट, ड्यूटी प्लेस और अपने मूवमेंट की जानकारी सोशल मीडिया पर पोस्ट नहीं करेगा।
7.ऑनलाइन पोलिंग, आर्म्‍ड फोर्सेज अथवा सरकार से जुड़़ी कैंपेन में भी भाग नहीं लेगा।
8.प्रशासनिक और आपरेशनल मुद्दों एवं सेना की छवि खराब करने वाले मुद्दों से दूर ही रहना होगा।
9. सरकार की नीतियां, डिफेंस मिनिस्‍ट्री और सेना की गतिविधियों से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय नहीं देगा
10.सेना की वर्दी में फोटोग्राफ और ऐसे बैकग्राउंड से बचेगा जहां सामरिक महत्व के सामान रखे गए हैं।
11. सोशल मीडिया पर कोई भी ग्रुप क्रिएट नहीं करेगा और न ही जुड़ेगा। धर्म, राजनीतिक संगठनों, फॉरेन मिलिट्री नेटवर्क अथवा किसी हेट ग्रुप से भी नहीं जुड़ेगा।
12.सेना से जुड़े कोई भी मैसेज को सर्क्रुलेट या पोस्ट नहीं करेगा।
13.पॉर्न साइट्स के पॉपअप्‍स पर क्लिक नहीं किया जाना चाहिए।
14. अनजान व्‍यक्ति की फ्रेंड रिक्‍वेस्‍ट एक्‍सेप्‍ट करने पर रहेगी पाबंदी। 
15. पीसी अथवा लैपटॉप पर सेना से जुड़ी कोई भी जानकारी सेव नहीं रखना चाहिए।
16. सोशल मीडिया पर किसी भी तरह की जानकारी बगैर मंजूरी लिए शेयर नहीं किया जाना चाहिए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned