आतंकी घटनाओं का मॉड्यूल हब बना यूपी का ये शहर, देखें वीडियो

Patrika News
 आतंकी घटनाओं का मॉड्यूल हब बना यूपी का ये शहर, देखें वीडियो

जानिए यूपी के इस शहर के बारे में...

रोहित त्रिपाठी, बिजनौर। आतंकवादी घटनाओं और स्लीपर सेल्स को लेकर बिजनौर में पहले भी आतंकी पनाह ले चुके हैं। 2014 से बिजनौर जनपद में आतंकी घटनाओं और आतंकी को पनाह देने के मामले में हमेशा चर्चा में रहा है। बिजनौर में 12 सितम्बर 2014 की दोपहर में बीच बाजार एक घर में ब्लास्ट हुआ था। जिसके बाद पुलिस जांच में पता चला कि इस मकान में 6 आतंकी पनाह लेकर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में लगे थे। 


पहले भी बिजनौर के घर में हुए धमाके की गूंज लखनऊ और दिल्ली में पहुंची थी। इन आतंकियों को पकड़ने के लिए एटीएस, एसटीएफ, एनएआई सहित तमाम कई सुरक्षा एजेंसियां काम कर रही थी। इस घटना के बाद पूरे बिजनौर जनपद में पुलिस ने सभी 6 आतंकियों के फोटो पोस्टर पूरे जिले में सभी चौराहों, सार्वजानिक स्थलों और मोहल्ले में दीवारों पर चस्पा कर दिए थे। सभी इन आतंकियों पर इनाम भी घोषित किया गया था। पुलिस ने इन आतंकियों की मदद करने वाले रईस, हुसना सहित कई मददगारों को पकड़ा भी था और आज भी ये आतंकी को पनाह देने के दोष में जेल में बंद है। बाद में 2015 और 2016 के बीच खंडवा जेल से भागे और बिजनौर में पनाह लिए इन आंतकियों को पुलिस ने अलग स्टेट पर मार गिराया था, जो मीडिया 2016 में जेल से भागे जिन आतंकियों को सेना ने बॉर्डर पर ढ़ेर किया था, उनमें से ये भी थे। 

बिजनौर में 2014 के ब्लास्ट के बाद जिला बिजनौर आतंकी होने वाली घटनाओं में हमेशा हाईलाइट पर रहा। इस घटना के बाद सूत्रों के हवाले से ये भी पता चला कि बिजनौर आतंकियों का मॉड्यूल हब बना रखा है। बिजनौर के आस मुस्लिम आबादियों में भारी संख्या में स्लीपर सेल्स होने का पता चलता रहा है। क्योंकि 2014 की घटना के बाद जांच एजेंसियों ने इस बात को स्वीकारा की ये आतंकी विस्फोट का बाद भी अपने पनाहगारों के बल पर महीनों यहां छीप छिपकर गुजारते रहे और वक्त आने पर यहां से फरार होने में भी कामयाब रहे। 

Image may contain: one or more people, people standing, people walking and outdoor

इन्हीं आतंकी घटनाओं के कनेक्शन के चलते एक बार फिर से नोएडा एटीएस ने जनपद के अलग अलग जगहों से 5 संदिग्धों को गुरुवार को गिरफ्तार किया है। हिरासत में लिए गए सभी युवक या तो मदरसों में पढ़ते हैं या वहां पर मुफ्ती है। एटीएस की यह छापेमारी बिजनौर में देर रात से जारी है। इस छापेमारी के बाद से बिजनौर में हड़कंप मचा हुआ है। लेकिन पुलिस का कोई भी अधिकारी अभी इस मामले में कुछ बोलने भी के लिए तैयार नहीं है।

देर रात से शुरू हुई इस छापेमारी में एटीएस की टीम ने अब तक बिजनौर के अलग-अलग स्थानों से पांच संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया है। एटीएस की टीम इन सभी पांचों लोगों को अपने साथ ले गई है। गिरफ्तार किए गए लोगों में मुफ्ती फैजान और तंजीर अहमद को एटीएस ने बढ़ापुर के मोती मस्जिद से और जैनुअलआब्दीन को अलीपुर जट मदरसे से इसके अलावा जहिरपुर गांव निवासी फरमान को दौलताबाद मदरसे से और अजीजुर्रहमान को धामपुर के मोहल्ला बन्दूकचियांन से उठाया है। 

इन सभी की गिरफ्तारी के बाद इन लोगों के परिजनों में जहां खौफ का माहौल है तो इनके कुछ परिजन भी अपने घरों से लापता हो गए हैं। पुलिस के अधिकारियों ने अनौपचारिक रूप से बताया कि इनको बाहर की कुछ टीमें अपने साथ ले गई है। साथ ही सूत्रों से पता चला है कि बिजनौर जिले में नोएडा एसटीएफ इनसे जुड़े और घटनाओं को अंजाम देने वाले इन लोगों रात में गिरफ्तार कर सकती है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned