BS-3 वाहनों की खरीदते वक्त ध्यान रखें ये महत्वपूर्ण बातें, नहीं तो उठाना पड़ सकता है नुकसान

Bike
BS-3 वाहनों की खरीदते वक्त ध्यान रखें ये महत्वपूर्ण बातें, नहीं तो उठाना पड़ सकता है नुकसान

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक 1 अप्रैल से पहले बेचे गए वाहनों के रजिस्ट्रेशन उन जगहों पर होंगे जहां बीएस-3 वाहनों के रजिस्ट्रेशन की अनुमति मिली हुई है

नई दिल्ली। बीएस-3 वाहनों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन के संबंध में बुधवार को आए सुप्रीम कोर्ट के अंतिम आदेश के बाद ऑटोमोबाइल कंपनियों ने अपने पुराने स्टॉक को निपटाने के लिए डिस्काउंट ऑफर पेश किया है। कंपनियों का यह ऑफर 30 और 31 मार्च 2017 को मान्य रहेगा। इस ऑफर की खबर मार्केट में जैसी फैली लोगों में बीएस-3 वाहनों को खरीदने की तगड़ी होड़ मच गई। देश में लगभग सभी जगह इन वाहनों को खरीदने वालों की अच्छी खासी भीड़ देखी जा सकती है। 

लेकिन यह ध्यान रहे, कई बार हम थोड़ा से मुनाफे के चक्कर में अपना ही बड़ा नुकसान कर बैठते है। हम आपको इन वाहनों के खरीदते समय किन सावधानियों को ध्यान रखना है उन्हीं के बारे में बताने जा रहे है। पहली बात तो ये कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक 1 अप्रैल से पहले बेचे गए वाहनों के रजिस्ट्रेशन उन जगहों पर होंगे जहां बीएस-3 वाहनों के रजिस्ट्रेशन की अनुमति मिली हुई है। जो वाहन 1 अप्रैल से पहले खरीदे गए लेकिन उनका रजिस्ट्रेशन 1 अप्रैल के बाद हुआ है तो उन्हें इस बात का प्रूफ देना होगा कि उन्होंने इस वाहन को 31 मार्च को रात 12 बजे से पहले खरीदा है। ऐसे में आपको यह ध्यान रखन होगा कि कहीं डीलर आपको कोई भी दस्तावेज या इनवॉइसेज 31 मार्च के बाद की डेट का न दे दे। 

एक और बात जो आपको गौर करने की है वो ये कि साल 2020 तक देश में बीएस-4 से आगे जाकर बीएस-6 उत्सर्जन नियम लागू हो जाएंगे। ऐसे में आपको द्वारा अभी खरीदी गई बाइक या कार की वैल्यू वैसे ही बहुत कम हो जाएगी। एक खतरा यह भी आ सकता है बीएस-4 वाहनों मार्केट में पूरी तरह आने के बाद सरकार बीएस-3 वाहनों के डिस्पोजल का अनिवार्य नियम बना दें। ऐसी स्थिति मेें आपके वाहन की रिसेल वैल्य क्या होगी, इसका अंदाजा आप खुद ही लगा सकते है। कहने का मतलब इतना सा है कि आप भविष्य में आने वाले सभी चुनौतियां को ध्यान में रखते हुए अपने लिए सही निर्णय लें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned