भूख हड़ताल करने के बाद निगम को आया होश, रातों-रात बनने लगी सड़क

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Apr, 21 2017 05:30:00 (IST)

Bilaspur, Chhattisgarh, India
भूख हड़ताल करने के बाद निगम को आया होश, रातों-रात बनने लगी सड़क

इससे पहले यहां के नागरिकों ने तीन बार चक्काजाम कर अपनी मांग मनवाने की कोशिश की थी

बिलासपुर. सीवरेज की खुदाई से परेशान तोरवा के नागरिकों ने सड़क बनाने की मांग को लेकर 18 अप्रैल से भूख हड़ताल पर बैठे थे। निगम ने तत्काल निर्णय लेते हुए सड़क का निर्माण प्रारंभ कर दिया है। पिछले डेढ़ से यहां के नागरिक धूल भरी सड़क से परेशान थे। तोरवा के नागरिक पिछले डेढ़ साल से सड़क को लेकर परेशान थे। उन्होंने कई बार निगम प्रशासन को सड़क बनाने के लिए ज्ञापन सौंपा, लेकिन हर बार उन्हें निराशा ही हाथ लगी। इससे पहले यहां के नागरिकों ने तीन बार चक्काजाम कर अपनी मांग मनवाने की कोशिश की थी।
हर बार उन्हें झूठा आश्वासन देकर चलता कर दिया जाता था। अपनी मांग को पूरी करने के लिए 18 अप्रैल को यहां के नागरिकों ने पंडाल लगाकर भूख हड़ताल पर बैठे रहे। प्रशासन द्वारा फिर उन्हें आश्वासन देने की कोशिश की गई, लेकिन नागरिकों ने उनकी बातों के अनसूना कर हड़ताल पर बैठे रहे। नागरिकों के इस रुप को देखकर निगम प्रशासन तत्काल तोरवा से देवरीखुर्द तक रोड़ निर्माण करने में लग गया।

रात में किया जा रहा है डामरीकरण
पिछले डेढ़ साल से तोरवा क्षेत्र के नागरिक सड़क की धूल से परेशान है। भूख हड़ताल करने के बाद निगम प्रशासन सड़क का निर्माण कर रहा है। लोगों के विरोध से बचने के लिए रात में ही डामरीकरण का कार्य किया जा रहा है।

पूरा शहर है परेशान
यातायात थाना, तालापारा रोड, श्रीकांत वर्मा मार्ग, जूना बिलासपुर, छत्तीसगढ़ भवन, जरहाभाठा, कस्तूरबा नगर, कोन्हेर गार्डन सहित पूरा शहर सीवरेज के गड्ढे से परेशान है। पिछले 8 सालों से शहर के नागरिक धूल खा रह हैं, लेकिन नगर निगम प्रशासन को इससे कोई लेना देना है। नगर निगम प्रशासन ने सिम्पलेक्स कंपनी को जून तक सड़क खुदाई कर पाइप लाइन बिछाने के लिए निर्देश दिए हैं। लेकिन कंपनी आधा काम तक नहीं कर पाई है। कंपनी को पांच किलोमीटर प्रतिमाह सड़क खुदाई करना है, लेकिन बड़ी मुश्किल से डेढ़ से दो किलो मीटर तक खुदाई कर पा रही है।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned