दोषियों को पकड़वाने वाले को इनाम, मुखबिर हुए शांत, नहीं दे रहे सूचना

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Jan, 14 2017 10:30:00 (IST)

Bilaspur, Chhattisgarh, India
दोषियों को पकड़वाने वाले को इनाम, मुखबिर हुए शांत, नहीं दे रहे सूचना

7 जनवरी को मस्तूरी थानांतर्गत ग्राम खुड़ूभाठा में ग्राम देवगांव की 19 वर्षीय युवती की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में  पुलिस को 7 दिनों के बाद भी सुराग नहीं मिला है।

बिलासपुर. मस्तूरी निर्भया कांड के आरोपियों का सुराग नहीं मिलने इनाम की घोषणा के बाद पुलिस की परेशानियां और बढ़ गई हैं। पहले पुलिस को मुखबिर संदेहियों का नाम और कुछ जानकारियां भी देते थे, लेकिन अब वे शांत पड़ गए हैं। वहीं पुलिस ने जांजगीर, बिलासपुर और पाराघाट में संदेहियों से पूछताछ की है, लेकिन निराशा ही हाथ लगी। 7 जनवरी को मस्तूरी थानांतर्गत ग्राम खुड़ूभाठा में ग्राम देवगांव की 19 वर्षीय युवती की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में  पुलिस को 7 दिनों के बाद भी सुराग नहीं मिला है।

करीब 150 लोगों से पुलिस पूछताछ कर चुकी है। गुरुवार को आईजी विवेकानंद सिन्हा ने  आरोपियों का सुराग देने वाले व्यक्ति को 30 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की थी।  इस घोषणा के बाद व ेमुखबिर शांत पड़ गए हैं, जो अब तक पुलिस को सूचनाएं दिया करते थे। मुखबिरों ने पुलिस को बताया था कि घटना के दिन ग्राम पाराघाट के युवक पिकनिक मनाने देवगांव और खुड़ूभाठा आए थे। वहीं पुलिस को पता चला था कि घटना के दिन जांजगीर और बिलासपुर के दो युवक गांव में आए थे।

टॉवर डंप एनॉलिसिस से भी नहीं मिली मदद

आरोपी का सुराग लगाने पुलिस साइबर सेल से मदद ले रही है। साइबर सेल की पूरी टीम ने मस्तूरी थाने में अस्थायी कैंप लगा रखा है। जयराम नगर, खुडूभाठा और देवगांव में घटना और उसके एक दिन पूर्व उपयोग हुए मोबाइल का टॉवर डंप एनालिसिस कर रही है। एक साथ हजारों मोबाइल नंबरों की जांच करने के बाद भी पुलिस को हत्यारे का सुराग नहीं मिला है।

आईजी के 12 पाइंट पर पुलिस कर रही जांच

आईजी विवेकानंद सिन्हा ने हत्यारे की तलाश कर रहे अधिकारियों को 12 बिन्दुओं पर ध्यान केन्द्रित कर जांच करने के निर्देश दिए थे। अधिकारियों और कर्मचारियों ने उन बिन्दुओं पर जांच शुरू कर दी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned