19 वर्षों के बाद भी प्रमोशन नहीं, जिला पंचायत सीईओ और सचिव को नोटिस

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Dec, 01 2016 12:35:00 (IST)

Bilaspur, Chhattisgarh, India
19 वर्षों के बाद भी प्रमोशन नहीं, जिला पंचायत सीईओ और सचिव को नोटिस

जस्टिस संजय के अग्रवाल ने 30 नवंबर को मामले की सुनवाई के बाद सीईओ जिला पंचायत जांजगीर एवं सीईओ जनपद पंचायत जैजैपुर समेत संचालनालय सचिव को नोटिस जारी करते हुए जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

बिलासपुर. सहायक शिक्षक के पद पर 19 वर्ष तक सेवा देने के बाद भी प्रमोशन नहीं दिए जाने पर हाईकोर्ट ने जिला पंचायत जांजगीर एवं जनपद पंचायत जैजैपुर के सीईओ एवं सचिव को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। जांजगीर-चांपा जिले के ब्लॉक जैजैपुर के रहने वाले भोजराज बघेल, परमेश्वर लाल चंद्रा, परमानंद साहू, श्याम प्रसाद पांडेय, यादराम खटर्जी, कोयल सिदार, निर्मला देवी श्रीवास, बाबूलाल माली, नरसिंह मनहर, शिवचरण रात्रे, मुरलीधर साहू, मारुलाल राय, सधउराम यादव, समारू राम जायसवाल ने अधिवक्ता अब्दुल वहाब खान के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका लगाते हुए कहा है कि सहायक शिक्षक के पद पर 19 वर्षों से कार्यरत हैं। उनकी प्रथम नियुक्ति 1997 की शिक्षा गारंटी योजना के तहत की गई थी।

जिसे 2003 में संविदा शिक्षक के पद पर मर्ज कर दिया गया। साथ ही शिक्षा गारंटी योजना के तहत संचालित शिक्षा गारंटी केंद्रों को प्राथमिक शालाओं में उन्नयन कर दिया गया। इस बीच राज्य शासन ने 2005 में आदेश जारी कर संविदा शिक्षकों को शिक्षाकर्मी वर्ग2 एवं 3 में परिवर्तित कर दिया गया। इस प्रकार सभी याचिकाकत्र्तागण अपनी प्रथम नियुक्ति 1997 से सेवारत हैं। लेकिन उनकी वरिष्ठता की गणना प्रथम नियुक्ति से नहीं की जा रही है।

अधिवक्ता खान ने कोर्ट को बताया कि उक्त आदेश के कारण सभी याचिकाकर्तागण का प्रमोशन वर्षों से लंबित है व आर्थिक क्षति भी हो रही है। जस्टिस संजय के अग्रवाल ने 30 नवंबर को मामले की सुनवाई के बाद सीईओ जिला पंचायत जांजगीर एवं सीईओ जनपद पंचायत जैजैपुर समेत संचालनालय सचिव को नोटिस जारी करते हुए जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned