मेरिट में मुंगेली का रहा दबदबा, यहां के 5 स्टूडेंट्स ने मेरिट में बनाई जगह

Bilaspur, Chhattisgarh, India
 मेरिट में मुंगेली का रहा दबदबा, यहां के 5 स्टूडेंट्स ने मेरिट में बनाई जगह

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 10वीं के रिजल्ट घोषित हो गए। इस बार मुंगेली जिले का पलड़ा भारी रहा। यहां के 5 परीक्षार्थियों ने मेरिट लिस्ट में जगह बनाई। आइए जानते उनके सफलता की कहानी उन्हीं की जुबानी

मुंगेली. छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 10वीं के रिजल्ट घोषित हो गए। इस बार मुंगेली जिले का पलड़ा भारी रहा। यहां के 5 परीक्षार्थियों ने मेरिट लिस्ट में जगह बनाई। आइए जानते उनके सफलता की कहानी उन्हीं की जुबानी.

छत्तीसगढ़ मण्डल में पांचवी पायदान पर पहुंचे योगेन्द्र वर्मा की इच्छा भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाने की है। आईएएस बनने की प्रेरणा योगेन्द्र को अपने शिक्षक पिता से मिली है। इसके लिए वो लगातार 7-8 घंटे परिश्रम कर रहे हैं। पांचवी रैंक पाने की सफलता का श्रेय वे गुरुजन, माता-पिता के साथ अपने भाई को विशेष रुप से देना चाहते हैं। योगेन्द्र महेन्द्र प्रताप हायर सेकेंडरी स्कूल झाफल जिला मुंगेली के छात्र हैं।  

Read More: 50 मिनट पहले लीक हो गया CG 10वीं का रिजल्ट, मंत्री ने दिए जांच के आदेश
छठवीं रैंक प्राप्त किए संदीप कुमार पिता सीताराम की इच्छा एक सफल व्यक्ति बनने का है। अपने इस सफलता का श्रेय संदीप अपने माता-पिता और शिक्षकों को देना चाहते है। संदीप ने कहा कि लगातार स्टडी और बड़ों के निदेर्शों का पालन करने से ही यह सफलता प्राप्त हुआ है। संदीप की शिक्षा सेतगंगा के रविन्द्र भारती हायर सेकंडरी स्कूल से हुई है।

सातवीं रैंक हासिल करने वाली वैशाली की इच्छा इंजीनियर बनने की है। यह उनका खुद का सपना है। इसके लिए वो लगातार 9-10 घंटे परिश्रम कर रही हैं। इस रैंक पाने की सफलता का श्रेय वे गुरुजन और माता-पिता के अलावा कलक्टर मैडम को देना चाहती है, जिन्होंने उन्हें सफलता के गुर बताए। वैशाली मुंगेली के शासकीय गल्र्स हायर सेकंडरी स्कूल की छात्रा है। उसके पिता गुपचुप बेचकर अपने परिवार का पालन-पोषण करते हैं।

Read More: CG 10th Board टॉपर चेतन ने शेयर किया सक्सेस मंत्र, मंत्री ने फोन पर दी बधाई

आठवीं रैंक हासिल करने वाली क्षमा देवी राजपूत की इच्छा सफल चिकित्सक बनने की है। चिकित्सक बनने की प्रेरणा क्षमा को अपने शिक्षक पिता से मिली है। इसके लिए वो लगातार 11-12 घंटे परिश्रम कर रही हैं। आठवीं रैंक पाने की सफलता का श्रेय वे गुरुजन, माता-पिता को देना चाहती हैं। क्षमा महेन्द्र प्रताप हायर सेकेंडरी स्कूल झाफल जिला मुंगेली की छात्रा हैं।
Read More: CG Board: धमतरी के चेतन रहे अव्वल, रायपुर के दो छात्र टॉप टेन में शामिल
दसवीं रैंक हासिल करने वाले विरेन्द्र सिंह राजपूत की इच्छा एक चिकित्सक बनने की है। उनका सपना है कि वो एक सफल चिकित्सक बने। उनके पिता एक किसान हैं, जो हमेशा परिश्रम से ही सफलता मिलने की प्रेरणा देते रहते हैं। इसके लिए वो लगातार 5-7 घंटे परिश्रम कर रहे हैं। दसवीं रैंक पाने की सफलता का श्रेय वे गुरुजन, माता-पिता को देना चाहते हैं। विरेन्द्र महेन्द्र प्रताप हायर सेकेंडरी स्कूल झाफल जिला मुंगेली के छात्र हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned