पार्षद बताएंगे रसोई गैस ग्राहकों का पता

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Jul, 18 2017 12:20:00 (IST)

bilaspur
पार्षद बताएंगे रसोई गैस ग्राहकों का पता

मेयर, खाद्य विभाग, गैस कंपनियों एजेंसी संचालकों की संयुक्त बैठक हुई, शहर में 10,204 कनेक्शन बांटने में दिक्कत

बिलासपुर. प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत शहर में गैस कनेक्शन वितरित में दिक्कतें हो रहीं हैं। पहला तो यह कि शहर में 88 फीसदी लोगों के पास पूर्व से ही गैस कनेक्शन है। दूसरा यह कि सर्वे सूची में पूरा पता नहीं होने की वजह से घर ढूंढऩे में परेशानी हो रही है।

सोमवार को संयुक्त बैठक में तय किया गया, कि नगर निगम सीमा में पार्षद अपने-अपने वार्डों में उज्जवला योजना की सर्वे सूची के अनुसार ग्राहकों का पता बताएंगे। इसके लिए एक संयुक्त समिति बनाई गई है। महापौर किशोर राय की अध्यक्षता में सोमवार को विकास भवन में खाद्य विभाग, गैस कंपनियां, व एजेंसी संचालकों की बैठक हुर्ई।

इसमें पीएम उज्जवला योजना के कनेक्शन बांटने के लिए आने वाली परेशानी पर चर्चा की गई। शहर में 10 हजार 204 बीपीएल लोगों को गैस कनेक्शन वितरण किया जाएगा।

88 फीसदी कनेक्शन बना जी का जंजाल: राज्य में गैस कनेक्शनधारियों के मामले में बिलासुपर नगर निगम दूसरे स्थान पर है। इस शहर में सभी वर्गों के 88 प्रतिशत परिवारों के पास किसी न किसी गैस कंपनी के कनेक्शन पहले से हैं। पहले स्थान पर भिलाई नगर निगम है। उज्जवला योजना में उन्हीं परिवार को गैस कनेक्शन देने का नियम है, जिनके परिवार में किसी भी सदस्य के नाम से गैस कनेक्शन नहीं है। अगर इस योजना की सर्वे सूची में बीपीएल परिवार का नाम है, और उसके पास पूर्व से ही गैस कनेक्शन है, तो इस स्थिति में वह व्यक्तिउज्जवला योजना के लिए अपात्र हो जाएगा।

आधे-अधूरे नाम बने परेशानी के सबब: पीएम उज्जवला योजना की सर्वे सूची में जिन परिवार के सदस्यों के नाम शामिल हैं। उसमें किसी व्यक्ति का पूरा नाम,पते का उल्लेख नहीं है। सूची में केवल व्यक्ति का नाम,वार्ड नबंर और शहर का पिनकोड का उल्लेख है। इससे किसी हितग्राही को ढूंढऩे में गैस कंपनियों को परेशानी हो रही है।

समन्वय समिति बनी: शहर के सभी वार्डों के पार्षद अपने-अपने वार्डों में उज्जवला योजना के ग्राहकों की पहचान करेंगे। इसके लिए बैठक में सभी पार्षदों के लिए सूची उपलब्ध कराई गई है। इस सूची के आधार पर पार्षद व्यक्ति के बारे में जानकारी देंगे। इसके समन्वय के लिए खाद्य विभाग,गैस एजेंसी संचालकोंं,नगर निगम के कर्मचारियों की एक समन्वय समिति बनाई गई है।

शहर में पीएम उज्जवला योजना के हितग्राहियों की पहचान करने हर वार्ड में पार्षदों का सहयोग लिया जाएगा। उनके पहचान के आधार पर कनेक्शन वितरण किया जाएगा। इसके लिए एक समन्वय समिति का गठन किया गया है।
आशुतोष चतुर्वेदी, जिला खाद्य नियंत्रक

उज्जवला योजना के गैस कनेक्शन संबंधित एजेंसी क्षेत्र के ग्राहकों को देने का निर्णय लिया गया है। वहीं अधूरे फार्म से अनेक आवेदकों के फार्म निरस्त होने पर चर्चा की गई।
रमेश सिहोते, सचिव, एलपीजी वितरक संघ, बिलासपुर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned