एनटीपीसी को पर्यावरण संरक्षण मंडल का नोटिस

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Jan, 13 2017 12:29:00 (IST)

Bilaspur, Chhattisgarh, India
एनटीपीसी को पर्यावरण संरक्षण मंडल का नोटिस

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल, भोपाल द्वारा फ्लाई ऐश का उपयोग राष्ट्रीय राजमार्ग बिलासपुर-सिमगा एवं सिमगा से रायपुर के मध्य होने वाले निर्माण कार्य के लिए अनिवार्य किया गया है।

बिलासपुर. राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण के लिए फ्लाई ऐश नहीं दिए जाने पर छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल ने एनटीपीसी सीपत को नोटिस जारी किया है। 15 दिनों में जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। संतोषजनक जवाब नहीं देने पर उद्योग को बंद करने की कार्रवाई की जाएगी। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल, भोपाल द्वारा फ्लाई ऐश का उपयोग राष्ट्रीय राजमार्ग बिलासपुर-सिमगा एवं सिमगा से रायपुर के मध्य होने वाले निर्माण कार्य के लिए अनिवार्य किया गया है। इस आदेश का पालन नहीं किए जाने पर क्षेत्रीय अधिकारी बिलासपुर ने बड़ी कार्यवाही करते हुए एनटीपीसी सीपत सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट को वायू प्रदूषण अधिनियम 1981 की धारा 31 ए के तहत नोटिस जारी किया है एवं 15 दिनों में जवाब देने के लिए कहा है।

संतोषजनक जवाब नहीं दिए जाने की स्थिति में मंडल द्वारा उद्योग को बंद किए जाने की कार्यवाही की जाएगी। क्षेत्रीय अधिकारी द्वारा जारी नोटिस में उल्लेख किया गया है कि उद्योग को फ्लाई ऐश की उपयोगिता के संबंध में जारी अधिसूचना वर्ष 2009 का पालन एवं नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल भोपाल द्वारा फ्लाई ऐश का उपयोग राष्ट्रीय राजमार्ग बिलासपुर-सिमगा एवं सिमगा से रायपुर के मध्य होने वाले निर्माण कार्य हेतु नहीं दिए जाने के कारण नोटिस जारी किया गया है।

पर्यावरण नियमों का उल्लंघन
मंडल का आरोप है कि सीपत के संयंत्र में भारी मात्रा में राख जमा है, जो कि वायू प्रदूषण अधिनियम  1981 का स्पष्ट उल्लंघन है। उल्लेखनीय है कि पर्यावरण मंडल द्वारा किसी सार्वजनिक क्षेत्र के बड़े उद्योग के विरुद्ध पर्यावरणीय अधिनियमों का पालन नहीं किए जाने के कारण कड़ा रुख अपनाए जाने से अन्य उल्लंघनकारी उद्योगों को चेतावनी है कि अब प्रदूषण को किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं किया जाएगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned