भाजपा के राज में एक और किसान ने की आत्‍महत्‍या

Noida, Uttar Pradesh, India
भाजपा के राज में एक और किसान ने की आत्‍महत्‍या

ग्रामीणों ने जिलाधिकारी कार्यालय के सामने शव रखकर लगाई न्याय की गुहार

बुलंदशहर. उत्तर प्रदेश में भी किसानों का उत्पीड़न इस कदर बढ़ रहा है कि किसान जान देने को मजबूर हो गए हैं। ताजा मामला बुलंदशहर के खर्जा का है। यहां चकबंदी विभाग के उत्पीड़न से तंग आकर रविवार देर शाम एक किसान ने अपने घर में आत्मदाह कर लिया। मृतक के परिजनों और ग्रामीणों ने सोमवार को जिला मुख्यालय पर जिलाधिकारी कार्यालय के सामने शव रख न्याय की गुहार लगाई है।

मामला बुलंदशहर की खुर्जा तहसील क्षेत्र के मुर्तज़ा भटवारा गांव का है। मुर्तज़ा भटवारा गांव के किसान सोमवार को बुलंदशहर स्थि‍त डीएम कार्यलय के बाहर पहुंचे और मृतक किसान का शव रखकर चकबंदी विभाग के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। मृतक रामकुमार के परिजनों का आरोप है कि गांव में चकबंदी चल रही है और चकबंदी अधिकारी ग्रामीणों का जमकर उत्पीड़न कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि राम कुमार किसान की 6 बीघे जमीन थी, लेकिन चकबंदी विभाग ने किसान की जमीन को दो बीघे कर दिया और किसान से एक लाख रुपए भी रिश्वत में ले लिए।

बता दें कि मृतक किसान रामकुमार ने ये रुपए साहूकार से कर्ज लेकर चकबंदी विभाग के अधिकारियों को दिए थे। आरोप है कि चकबंदी विभाग के अधिकारियों ने रुपए भी ले लिए और 6 बीघा जमीन के बदले पौने दो बीघा जमीन बना दी। इस बात से किसान रामकुमार तनाव में आ गया और रविवार की देर शाम घर में ही मिटटी का तेल डालकर आग लगा ली।
 
अब किसान की मौत से जुड़ा हुआ मामला होने के कारण प्रशासन और पुलिस भी फूंक-फूंककर कदम रख रहा है। कभी किसान से ज्ञापन के नाम पर तो कभी कम जानकारी के नाम पर प्रशासन साफ़-साफ़ बोलने में अभी बच रहा है, लेकिन प्रशासन कह रहा है कि जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

नगर मजिस्ट्रेट राम गोपाल ने बताया कि किसान की 6 बीघा जमीन को पौने दो बीघा करने और एक लाख रुपए भी रिश्वत लेने के मामले की जांच की जाएगी। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। फिलहाल मृतक किसान के शव को पोस्टर्माटम के लिए भेजा गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned