रेलवे मजिस्ट्रेट के आने से पहले ट्रेक से हमेशा भीख मांगने वाले बच्चे गायब

Editorial Khandwa

Publish: Jul, 18 2017 01:31:00 (IST)

Burhanpur, Madhya Pradesh, India
रेलवे मजिस्ट्रेट के आने से पहले ट्रेक से हमेशा भीख मांगने वाले बच्चे गायब

एक बच्चा मिला जिसने कहा- शॉर्ट कट के चक्कर में रेलवे ब्रिज से निकला

बुरहानपुर. हमेशा रेलवे स्टेशन पर भीख मांगते हुए बच्चों को आसानी से देखा जा सकता है, लेकिन सोमवार को खंडवा से आए रेलवे मजिस्ट्रेट मनीषसिंह ठाकुर के दौरे से पहले सभी बच्चे गायब हो गए। एक घंटे तक मजिस्ट्रेट सहित बाल कल्याण समिति के लोग यहां घूमते रहे। आखिरकार सभी यहां से खाली हाथ लौट गए।
विधिक जागरुकता एवं साक्षरता अभियान 17 से 21 जुलाई तक शुरू किया गया है। इसमें अनाथ, बेसहारा, मानसिक रूप से बीमार बच्चों को ढूंढ रहे हैं। जिनके देखभाल और संरक्षण की जरूरत है। इसी के लिए रेलवे मजिस्ट्रेट खंडवा ठाकुर बुरहानपुर आए थे। 4 से 5 बजे तक रेलवे स्टेशन पर पैदल घूमे। इस बीच रेलवे ब्रिज पर एक बच्चा मिला जिससे मजिस्ट्रेट ने पूछा तुम कहा जा रहे हो और तुमसे कोई भीख तो नहीं मंगवा रहा है। बच्चे ने कहा कि मैं लालबाग में ही रहता हूं और यहां से शॉर्ट कट रास्ता होने से निकल रहा हूं। यह बात सुनकर उसे आगे जाने दिया। इनके साथ जिला विधिक सहायता अधिकारी संदेश मंडलोई सहित बाल कल्याण समिति के रघुनाथ महाजन, तसनीम मर्चेंट, मंसूर सेवक, रॉबीन दयाल आदि मौजूद थे। दयाल ने बताया कि अनाथ, बेसहारा, मानसिक रूप से बीमार बच्चों को तलाश कर उनके देखभाल और संरक्षण की जरूरत है। विधिक सेवाएं और संरक्षण के लिए विधिक सेवा योजना लागू की गई है।
पहले लग गई थी खबर
रेलवे स्टेशन पर मजिस्ट्रेट के आने की खबर पहले ही यहां भीख मांगवाने वाले लोगों को लग गई। इसलिए मजिस्टे्रट के आने से पहले बच्चे गायब हो गए। जबकि यहां पर प्लेटफार्म, स्टेशन परिसर पर कई बच्चे घूमते नजर आते हैं।
एमएसटी लेकर स्लीपर में बैठने वालों को पकड़ा
खंडवा से कामायनी एक्सप्रेस से आए रेलवे मजिस्ट्रेट ने 13 ऐसे यात्रियों पर कार्रवाई की जो एमएसटी के सहारे स्लीपर कोच में बैठकर आ रहे थे। सभी के विरुद्ध चालानी कार्रवाई की गई है। उनका कहना है कि एमएसटी कार्ड लेकर स्लीपर में नहीं बैठ सकते।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned