यहां केले की नीलामी पर न करें एतबार, असलियत जानेंगे तो न करेंगे व्यापार

Burhanpur, Madhya Pradesh, India
यहां केले की नीलामी पर न करें एतबार, असलियत जानेंगे तो न करेंगे व्यापार

नीलामी के पहले केला ग्रुप और व्यापारी मंडी में आकर केले की क्वालिटी देखकर जाते हैं।  इसके बाद नीलामी में भाव तय करते हैं। बावजूद इसके कीमत गिरा दिया जाता है। किसान जयंत चौधरी ने बताया कि केला ग्रुप और व्यापारी भी यह बात उस समय करते हैं, जब हम केला काटकर गाडिय़ों में भर देते हैं।

बुरहानपुर @ पत्रिका . केला नीलामी मंडी में किसानों के साथ धोखा किया जा रहा है। नीलामी में केले के ऊंचे भाव  लगाने के बाद सीधे 40  से 60 फीसदी रेट खेत में जाकर कम कर रहे हैं।
इससे किसानों में आक्रोश है। व्यापारियों से लेकर केला ग्रुप संचालक इस तरह की हरकत कर रहे हैं। काफी समय से इस तरह का खेल चल रहा है, लेकिन मंडी प्रबंधन की ओर से कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है।

येभी पढ़ें : मकान की चाह मेंबुरहानपुरवासियों ने कर लियामकान पर कब्जा

 किसानों का कहना है कि मंडी में जो भाव केले के नीलाम होते हैं वह गाड़ी भरने के समय 500 से 1 हजार रुपए तक कम कर दिए जाते हैं। जबकि नीलामी के पहले केला ग्रुप और व्यापारी मंडी में आकर केले की क्वालिटी देखकर जाते हैं।
 इसके बाद नीलामी में भाव तय करते हैं। बावजूद इसके कीमत गिरा दिया जाता है। किसान जयंत चौधरी ने बताया कि केला ग्रुप और व्यापारी भी यह बात उस समय करते हैं, जब हम केला काटकर गाडिय़ों में भर देते हैं।

येभी पढ़ें :सबसेअच्छी राशन की दुकान में पहुंचेभोपाल के अफसर,वीडियोबनाए, फोटोखीचीं और चलते बने

 इधर, व्यापारियों का कहना है कि नीलामी के समय केले की क्वॉलिटी की जानकारी बोर्ड पर चस्पा की जानी चाहिए।  व्यापारी रिंकू टांक ने कहा कि कई बार ग्रुप के लोग दाम एकबारगी गिरा देते हैं। इसकारण कम रेट करने पर अच्छे व्यापारी भी बदनाम हो रहे हैं।
1 लाख से अधिक का नुकसान  
एक गाड़ी में 1200 टन तक केला आता है। 2 हजार के भाव से सीधे 500 रुपए कम होने पर किसानों को 1 लाख से अधिक का नुकसान होता है। इसलिए वे नाराज होते हैं।
व्यापारियों का कहना है कि हम भी केले की बोली लगाने के बाद केला ग्रुप वालों को देते हैं। वे हल्का माल बताकर कम रेट कर देते हैं, इस चक्कर में किसानों का नुकसान होता है। हालांकि कई ग्रुप वाले भी मंडी में आकर बोली लगाते हैं।

येभी पढ़ें :मैराथनदौड़ :बिनाजूते के दौड़ी युवती बनीविजेताबोली-पापाके इलाज में लगाएगी इनाम कीराशि

शिकायत के बाद जारी किए नोटिस
मंडी प्रबंधन का कहना है कि किसानों की शिकायत के बाद जांच शुरू कर दिए हैं। इसे लेकर न्यू गजानन केला ग्रुप, कृष्णनल केला ग्रुप, मां अन्नपूर्णा केला ग्रुप, गुरुकृपा केला ग्रुप को नोटिस जारी किए गए हैं।
 इनके खरीदी-बिक्री के दस्तावेज मंगवाए गए हैं। जो भाव मंडी में तय हुए थे और जो किसानों को बेचे उसकी रसीद की जांच की जाएगी। इसके अलावा अन्य केला ग्रुप और व्यापारियों को भी नोटिस भेजने की तैयारी चल रही है।
 केले के भाव में फिलहाल अच्छा उछाल आया है। तीन दिन के भीतर 3 हजार रुपए तक रेट पहुंच गए। केले की आवक कम होने से यह स्थिति बनी है।

येभी पढ़ें :मंत्रीनहीं आए तो हल्दी चढऩे के बादऐन मौके पर टाल दी मुख्यमंत्रीकन्यादान योजना की शादी

 नवंबर में जहां केले की एक दिन में 50 से अधिक गाडिय़ां लगने पर अधिकतम दाम 700 रुपए हुआ करते थे, अब मात्र 15 से 20 गाडिय़ां लग रही है और भाव 3 हजार तक पहुंच रहे हैं। गुरुवार को केले के दाम 2100 रुपए तक रहे।

येभी पढ़ें :अगरकिसान करते हैं मसालों कीखेती, होजाएगी आय दोगुना


किसानों के हित में कार्रवाई करे प्रबंधन
मंडी की केला नीलामी में जो भाव तय होते हैं, वे किसानों को नहीं दिए जा रहे हैं। इसे लेकर किसानों में आक्रोश है। जल्द मंडी प्रबंधन को इस पर कार्रवाई की जाना चाहिए।
शिवकुमार सिंह कुशवाह, केला किसान

नोटिस जारी किए हैं, जांच चल रही है
 किसानों की शिकायत के बाद हमने केला ग्रुप वालों को नोटिस जारी कर दिए हैं। मामले को लेकर जांच चल रही है।
केके अग्निहोत्री, मंडी सचिव

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned