मेक इन इंडिया: टाटा भारत में बनाएगा F-16 लड़ाकू विमान

Business
मेक इन इंडिया: टाटा भारत में बनाएगा F-16 लड़ाकू विमान

F-16 का भारत में उत्पादन होने से भारत और अमरीका में नई नौकरियां पैदा होंगी। रूस और इजरायल के बाद अमरीका भारत को सबसे ज्यादा हथियार सप्लाई करने वाला तीसरा देश बन गया है। टाटा पहले से ही C-130 मिलिटरी ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट के पुर्जे बना रहा है। 

नई दिल्ली: पीएम मोदी के अमरीका दौरे से पहले सरकार की 'मेक इन इंडिया' पहल को नई ताकत मिली है। अमरीका की एयरोस्पेस टेक्नॉलजी कंपनी लॉकहीड मार्टिन ने भारत की टाटा अडवांस्ड सिस्टम्स के साथ मिलकर F-16 लड़ाकू विमान भारत में बनाने का करार किया है। यह करार इस लिहाज से अहम है क्योंकि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी अमरीका फर्स्ट नीति के मुताबिक वहां की कंपनियों को वहीं निवेश बढ़ाने पर जोर दे रहे हैं ताकि अमरीकियों को नौकरी के ज्यादा से ज्यादा नए मौके मिल सकें। दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने महत्वाकांक्षी अभियान 'मेक इन इंडिया' के तहत भारत में ज्यादा से ज्यादा विदेशी निवेश और उत्पादन पर जोर दे रहे हैं। 

पीएम मोदी 26 जून को वाशिंगटन में करेंगे ट्रंप से मुलाकात
Image result for modi trump
भारत काफी समय से रक्षा उपकरणों के लिए 'मेक इन इंडिया' पर जोर दे रहा था। भारतीय वायुसेना अपने लड़ाकू विमानों के बेड़े को जल्द बदलना चाहती है। अभी भारत के पास पुराने हो चुके सोवियत जमाने के लड़ाकू विमान हैं। पीएम मोदी 26 जून को पहली बार वाशिंगटन में अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करने वाले हैं। 

लॉकहीड मार्टिन और टाटा ने पेरिस एयरशो में की करार घोषणा 
समाचार एजेंसी की खबर के मुताबिक, पेरिस एयरशो में करार की घोषणा करते हुए लॉकहीड मार्टिन और टाटा ने कहा कि F-16 का भारत में उत्पादन होने से अमरीका में नौकरियों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। दोनों कंपनियों ने एक साझा बयान जारी करते हुए कहा कि F-16 का भारत में उत्पादन होने से भारत और अमरीका में नई नौकरियां पैदा होंगी। 
Related image
इस समझौते से आयात में होने वाले खर्चे में आएगी कमी
मोदी सरकार की नीति के अनुसार किसी भी विदेशी कंपनी को भारतीय कंपनी के साथ मिलकर भारत में विमानों का उत्पादन करना होगा, जिससे देश में उत्पादन बढ़े और आयात पर होने वाले भारी खर्चे को कम किया जा सके। पीएम मोदी की 'मेक इन इंडिया' नीति और अमरीकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की 'अमरीका फर्स्ट' नीति आपस में भिड़ रहीं थीं। अमरीका फर्स्ट नीति के तहत ट्रंप कंपनियों को अमरीका में ही निवेश करने का दबाव बना रहे हैं जिससे नई नौकरियां पैदा हो सकें।

रूस-इजरायल के बाद अमरीका भारत को हथियार सप्लाई वाला तीसरा देश बना
पीएम मोदी 26 जून को डोनाल्ड ट्रंप से पहली मुलाकात करने वाले हैं। भारत और अमरीका के बीच हाल के दिनों में रक्षा संबंध मजबूत हुए हैं। रूस और इजरायल के बाद अमरीका भारत को सबसे ज्यादा हथियार सप्लाई करने वाला तीसरा देश बन गया है। इसके अलावा स्वीडन की कंपनी साब भी भारतीय एयरफोर्स को ग्रीपन लड़ाकू विमान बेचना चाहती है। साब भी भारत में विमानों का उत्पादन करने के लिए राजी है। हालांकि कंपनी ने अभी भारतीय साझीदार के नाम का खुलासा नहीं किया है। 
 
भारत को लड़ाकू विमान के नए मॉडल ब्लॉक-70 का ऑफर
साझा बयान के मुताबिक, भारत F-16 लड़ाकू विमानों को दुनिया के अन्य देशों को भी निर्यात कर सकता है। दुनिया के 26 देश 3,200 F-16 लड़ाकू विमानों का प्रयोग करते हैं। भारत को इस सीरीज का ब्लॉक 70 लड़ाकू विमान ऑफर किया जा रहा है जो सबसे नया मॉडल है। टाटा पहले से ही C-130 मिलिटरी ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट के पुर्जे बना रहा है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned