आइडिया-वोडाफोन का हुआ विलय, ऊपरी स्तर से 25 फीसदी गिरा आइडिया का शेयर

Business
आइडिया-वोडाफोन का हुआ विलय, ऊपरी स्तर से 25 फीसदी गिरा आइडिया का शेयर

टेलीकॉम उद्योग में एक बड़े विलय के तहत सोमवार को वोडाफोन इंडिया और आदित्य बिड़ला ग्रुप के आइडिया सेल्युलर के बीच बहुप्रतीक्षित विलय का ऐलान कर दिया गया।

नई दिल्ली.टेलीकॉम उद्योग में एक बड़े विलय के तहत सोमवार को वोडाफोन इंडिया और आदित्य बिड़ला ग्रुप के आइडिया सेल्युलर के बीच बहुप्रतीक्षित विलय का ऐलान कर दिया गया। आइडिया सेल्युलर ने सोमवार को कहा कि उसके निदेशक मंडल ने 'वोडाफोन इंडिया लिमिटेड और उसके पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी वोडाफोन मोबाइल सर्विस लिमिटेड के कंपनी (आइडिया) के साथ विलय को मंजूरी दे दी है। इस खबर के आने के बाद आइडिया का शेयर एनएसई पर उछल कर एक समय 123.75 पर पहुंच गया था, लेकिन अमुमान से कम कीमत पर आइडिया के शेयर बेचे जाने की खबर आने पर शेयर 92 रुपए के दिन के निम्नतम् स्तर पर भी आ गया था। खबर लिखे जाते वक्त आइडिया का शेयर 98.60 रुपए पर ट्रेट कर रहा था।
 बिड़ला ने विलय बताया बेहद लाभप्रद
आइडिया ने एक बयान में कहा कि वोडाफोन के पास संयुक्त कंपनी की 45.1 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। जबकि, आदित्य बिड़ला समूह के पास 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रहेगी और उसे समय के साथ हिस्सेदारी बराबर करने के लिए वोडाफोन से और 9 प्रतिशत शेयर लेने का अधिकार होगा। आदित्य बिड़ला समूह के अध्यक्ष कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा, "हमें अब तक समर्थन देने वाले आइडिया के शेयरधारकों और ऋणदाताओं के लिए यह विलय बेहद लाभप्रद रहेगा। आइडिया और वोडाफोन साथ मिलकर एक बेहद महत्वपूर्ण कंपनी बनाएंगे।"

डिजिटल इंडिया में निभाएंगे अहम जिम्मेदारी
वोडाफोन समूह के कार्यकारी अध्यक्ष विट्टोरियो कोलाओ ने कहा है कि वोडाफोन इंडिया और आइडिया के विलय से डिजिटल इंडिया का एक नया चैंपियन तैयार होगा। यह विलय दीर्घकालिक प्रतिबद्धता और पूरे भारत के गांवों, शहरों और कस्बों में विश्वस्तरीय 4जी नेटवर्क लाने के ध्येय से किया गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned