छह महीने के टॉप पर कोर सेक्टर की ग्रोथ, रिफाइनरी-इस्पात सेक्टर में तेजी

Business
 छह महीने के टॉप पर कोर सेक्टर की ग्रोथ, रिफाइनरी-इस्पात सेक्टर में तेजी

इस्पात और सीमेंट का उत्पादन बढऩे से देश की औद्योगिक धड़कन माने जाने वाले आठ उद्योगों की वृद्धि अक्टूबर में 6.6 प्रतिशत रही है।


नई दिल्ली। इस्पात और सीमेंट का उत्पादन बढऩे से देश की औद्योगिक धड़कन माने जाने वाले आठ उद्योगों की वृद्धि अक्टूबर में 6.6 प्रतिशत रही है। पिछले महीने यह आंकड़ा पांच प्रतिशत दर्ज किया गया था। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने बुधवार को जारी आंकड़ों में बताया कि कोर उद्योगों के उत्पादन में यह वृद्धि रिफाइनरी, इस्पात और सीमेंट के कारण हुई है। कोर उद्योगों में कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली क्षेत्र शामिल हैं। आंकडों के अनुसार चालू वित्त वर्ष की अप्रैल से अक्टूबर तक की अवधि में कोर उत्पादन की वृद्धि दर 4.9 प्रतिशत रही है। पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में कोर उत्पादन वृद्धि दर 2.8 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। अक्टूबर 2015 में कोर उत्पादन की वृद्धि दर 3.8 प्रतिशत रही थी। अक्टूबर 2016 में कोयला, कच्चा तेल और प्राकृतिक गैस क्षेत्र नकारात्मक रहे हैं जबकि रिफाइनरी, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली क्षेत्र में सकारात्मकता देखी गयी है। 

कोयले में  नेगेटिव ग्रोथ 

अक्टूबर महीने में कोयले की वृद्धि नकारात्मक 1.6 प्रतिशत, कच्चे तेल की वृद्धि दर नकारात्मक 3.2 प्रतिशत और प्राकृतिक गैस की वृद्धि दर नकारात्मक 1.4 प्रतिशत रही है। इसी अवधि में रिफाइनरी का उत्पादन 15.1 प्रतिशत, उर्वरक 0.8 प्रतिशत, इस्पात 16.9 प्रतिशत, बिजली 2.8 प्रतिशत और सीमेंट 6.2 प्रतिशत बढ़ा है। अप्रैल से अक्टूबर 2016 की अवधि में कोयले का उत्पादन 0.7 प्रतिशत, रिफाइनरी 8.9 प्रतिशत, उर्वरक 4.8 प्रतिशत, इस्पात 8.5 प्रतिशत, बिजली 4.7 प्रतिशत और सीमेंट 4.8 प्रतिशत बढ़ा है। इसी अवधि में कच्चे तेल का उत्पादन 3.3 प्रतिशत और प्राकृतिक गैस का उत्पादन 4.0 प्रतिशत गिर गया है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned