भारत के अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन रैंकिंग में सुधार

Business
भारत के अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन रैंकिंग में सुधार

अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन में प्रवासी भारतीय पर्यटक को जोडने से भारत की रैंकिंग में काफी सुधार हुआ है और यह संख्या वर्ष 2015 में 0. 6 प्रतिशत से बढ़कर 1.12 प्रतिशत पहुंच गई है। 

नई दिल्ली. अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन में प्रवासी भारतीय पर्यटक को जोडने से भारत की रैंकिंग में काफी सुधार हुआ है और यह संख्या वर्ष 2015 में 0. 6 प्रतिशत से बढ़कर 1.12 प्रतिशत पहुंच गई है। उल्लेखनीय है कि भारत पहले विदेशी पर्यटकों के आगमन के आंकड़े ही संकलित करता था, लेकिन अब उसने प्रवासी पर्यटक भारतीयों के आंकड़ों का संकलन भी शुरू कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) की परिभाषा में अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन में दो घटकों-विदेशी पर्यटक आगमन और प्रवासी भारतीय नागरिक आगमन को शामिल किया जाता है। 

नियम बदलने से मिला फायदा
यूएनडब्ल्यूटीओ के मार्च 217 के लिए नवीनतम मापदंड के अनुसार अंतरराष्ट्रीय पर्यटक आगमन रैंकिंग में 2014 और 2015 में प्रवासी भारतीयों के आगमन के आंकड़े जुडने पर भारत का स्थान 24 वां रहा, जबकि प्रवासी पर्यटक भारतीयों के आंकड़े इसमें नहीं जोड़े जाने पर 2014 में इसका स्थान 41 वां और 2015 में 40 वां रहा। वर्ष 2014 में 54 लाख 30 हजार और वर्ष 2015 में 52 लाख 30 हजार प्रवासी भारतीय पर्यटन के लिए भारत में आए ।

यात्रा एवं पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूचकांक-2017 में भी सुधार
इस तरह भारतीय में अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के आने की संख्या वर्ष 2014 में एक करोड़ 31 लाख दस हजार और वर्ष 2015 में एक करोड़ 32 लाख 80 हजार रही। 2017 के यात्रा एवं पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूचकांक में भी भारत की रैंकिंग में वर्ष 2015 के मुकाबले 12 स्थान का सुधार हुआ है। 2011 में वह 68 वें, 2013 में 65 वें और 2015 में 52 वें स्थान पर रहा था।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned