IGNOU को मिली पहली Transgender छात्रा

Career Courses
IGNOU को मिली पहली Transgender छात्रा

उन्होंने अपना नामांकन इग्नू के क्षेत्रीय केंद्र द्वारा महाराजा बिजलीपासी राजकीय महाविद्यालय में लगाए गए जागरूकता शिविर में कराया

लखनऊ। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने नए सत्र से ट्रांसजेंडर (किन्नर) समुदाय के लोगों को नि:शुल्क शिक्षा देने का निर्णय लिया है। इसका लाभ लेते हुए सुधा किन्नर ने सोमवार को इग्नू के लखनऊ स्थित क्षेत्रीय केंद्र में स्नातक उपाधि प्रारंभिक कार्यक्रम (बीपीपी) में अपना नामांकन कराया। उन्होंने अपना नामांकन इग्नू के क्षेत्रीय केंद्र द्वारा महाराजा बिजलीपासी राजकीय महाविद्यालय में लगाए गए जागरूकता शिविर में कराया। इस शिविर में किन्नर समुदाय के बहुत सारे लोगों ने भाग लिया।

सुधा किन्नर ने कहा, इग्नू ने किन्नर समाज को शिक्षा के माध्यम से मुख्यधारा में जोडऩे का जो प्रयास किया है, वह सराहनीय है। इस पहल से किन्नरों के सामाजिक जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आएगा, जो उन्हें सशक्त बनाएगा।

इग्नू की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. मनोरमा सिंह ने कहा कि इग्नू अभी तक बंदियों को नि:शुल्क शिक्षा प्रदान कर रहा था, अब यही सुविधा जुलाई, 2017 सत्र से ट्रांसजेंडर समुदाय के विद्यार्थियों को भी दी जाएगी। क्षेत्रीय केंद्र का प्रयास रहेगा कि जन-जागरण द्वारा इस समुदाय के व्यक्तियों को इग्नू द्वारा दी जा रही मुफ्त शिक्षा के विषय में बताया जाए, ताकि वे इन
सुविधाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठा सकें।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय का प्रयास रहेगा कि किन्नर समुदाय के लोगों को उनके द्वार पर शिक्षा उपलब्ध कराई जाए। सहायक क्षेत्रीय निदेशक डॉ. अनामिका सिन्हा ने बताया कि इग्नू में नामांकन कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई है। इसके विषय में अधिक जानकारी इग्नू की वेबसाइट से ली जा सकती है।


इस ऐप से छात्रों की समस्या का समाधान करेगा IGNOU
लखनऊ. इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ने स्टूडेंट्स की सहायता के लिए आईग्राम (इग्नू ग्रीवान्स रिड्रेस एंड मैनेजमेन्ट) एप्लीकेशन की शुरुआत की है। आईग्राम एप्लीकेशन को क्षेत्रीय सेवा प्रभाग व स्टूडेंट सहायता केन्द्र के संयुक्त प्रयासों को द्वारा बनाया गया है। इसे इग्नू की वेबसाइट पर अपलोड किया जा चुका है। इग्नू क्षेत्रीय केन्द्र, लखनऊ के उप-निदेशक डाॅ. अश्विनी कुमार ने बताया कि आईग्राम एप्लीकेशन का उद्देश्य विद्यार्थियों की समस्याओं का शीघ्र ही समाधान करना है, ताकि विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम को पूरा करने में आने वाली कठिनाईयों का सामना न करना पड़े।

उप-निदेशक डाॅ. अश्विनी कुमार ने बताया कि इग्नू ने जुलाई-2017 सत्र हेतु प्रमाण-पत्र, डिप्लोमा, पी0जी0 डिप्लोमा, स्नातक एवं परास्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु आॅन-लाईन सुविधा प्रदान की है। इच्छुक अभ्यर्थी इग्नू की वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

कैशलेस इकोनॉमिक की तरफ कदम बढ़ाते हुए इग्नू ने नए सत्र में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस वर्ष से इग्नू में प्रवेश एवं पुन: पंजीकरण की प्रक्रिया पूर्ण रूप से ऑनलाइन कर दी गई है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned