पीएलएफआई के नौ नक्सलियों ने डीजीपी के सामने किया सरेंडर

Indresh Gupta

Publish: Oct, 19 2016 12:41:00 (IST)

Chaibasa, Jharkhand, India
पीएलएफआई के नौ नक्सलियों ने डीजीपी के सामने किया सरेंडर

बिहारी सिंह उर्फ़ लालू ने कहा कि पारिवारिक विवाद के कारण बदला लेने के लिए वह संगठन में शामिल हुआ।

चाईबासा। पीपुल्स लिब्रेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएलएफआई) के नौ नक्सलियों ने सोमवार को हथियारों के साथ सरेंडर कर दिया। नक्सलियों ने डीजीपी डीके पांडेय के सामने सरेंडर किया। सभी नक्सलियों ने एरिया कमांडर लाल बिहारी के नेतृत्व में सरेंडर किया। बता दें कि पुलिस को इन नक्सलियों की लंबे समय से तलाश थी।

जानकारी के अनुसार एरिया कमांडर लाल बिहारी पर दो लाख का इनाम है। वहीं सरेंडर करने वाले संगठन के कैडर नक्सलियों पर एक-एक लाख रुपए का इनाम है। पुलिस लाल बिहारी समेत सभी नौ नक्सलियों की अलग अलग मामलों में लबे समय से तलाश कर रही थी।

सोमवार को नक्सलियों की ओर से किया गया सरेंडर अब तक का सबसे बड़ा सरेंडर माना जाता है। इस वर्ष अब तक 18 नक्सलियों ने सरेंडर किया है। 2015 में जहां 13 नक्सलियों ने सरेंडर किया था वहीं वर्ष 2014 में महज 10 नक्सलियों ने सरेंडर किया।

पश्चिमी सिंहभूम के बंदगांव थाना के सामु, मिटू, अचु, दाहू, बिरसा, सादो और गोमा ने बताया कि वे उन दिनों स्कूल में पढ़ रहे थे। 2013 में पीएलएफआई यानी पीपुल्स लिब्रेशन फ्रंट ऑफ इंडिया के एरिया कमांडर मंगरा लुगून और अमर गुड़िया गांव आए और उन्हें संगठन में शामिल होने के लिए मजबूर कर दिया।

परिवार वालों ने विरोध किया तो उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई। इसके बाद उन्हें महिलाओं से छेड़छाड़ करने, हत्या, मारपीट, छिनतई जैसी घटनाओं को अंजाम देने के लिए मजबूर किया गया। वहीं सरेंडर करने वाला एक नक्सली लाल बिहारी सिंह उर्फ़ लालू ने कहा कि पारिवारिक विवाद के कारण बदला लेने के लिए वह संगठन में शामिल हुआ।

पुलिस हेडक्वार्टर में आयोजित कार्यक्रम में डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी हेडक्वार्टर अजय भटनागर, एडीजी स्पेशल ब्रांच अनुराग गुप्ता, एडीजी अनिल पाल्टा, आईजी प्रोविजन आरके मल्लिक, आईजी आपरेशंस एमएस भाटिया, कोल्हान डीआईजी शंभू ठाकुरआदि मौजूद थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned