शख्सियत दमदार होती है तभी तो दुश्मन बनते हैं: हुड्डा

Yuvraj Singh

Publish: May, 17 2017 11:54:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
शख्सियत दमदार होती है तभी तो दुश्मन बनते हैं: हुड्डा

वर्तमान भाजपा के कई नेताओं ने जमीन छुड़वाने को किया था संपर्क, खट्टर बताएं बावल में क्यों छोड़ी 3600 एकड़ जमीन

चंडीगढ़। मानेसर जमीन घोटाले में सीबीआई द्वारा आठ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ किए जाने के बावजूद हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा खासे हलके मूढ़ में दिखाई दिए और उन्होंने सीबीआई की कार्रवाई को हंसी में लेते हुए एक के बाद एक कई शायराना अंदाज में जवाब दिए। उल्टा हुड्डा ने मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर की घेराबंदी करते हुए कहा कि सरकार बताए कि रेवाड़ी के बावल में 3600 एकड़ जमीन क्यों छोड़ी गई है।

सीबीआई ने हुड्डा को एजेएल विवाद, पंचकूला औद्योगिक प्लाट आबंटन मामला तथा मानेसर जमीन घोटाले में एक सप्ताह के भीतर दो बार तलब करके पूछताछ की है।

पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मानेसर की जमीन छोडऩे का फैसला जनता के हितों को देखते हुए लिया गया था। यह सरकार या सीबीआई चाहे तो जनता से पूछ ले की उनके फैसले से लोगों को लाभ हुआ था या नहीं। हुड्डा ने बगैर किसी का नाम लिए भाजपा नेताओं की घेराबंदी करते हुए कहा कि उस समय जो नेता सरकार के  लोगों के समर्थन में जमीन को अधिग्रहण से मुक्त कराने के  लिए आए थे, आज भाजपा में किन पदों पर हैं। 2004 में जब जमीन का अधिग्रहण हुआ, तब इनेलो की सरकार थी। कांग्रेस सरकार ने लोगों के  हित में जमीन को अधिग्रहण से मुक्त किया था, क्योंकि वहां लोगों के पक्के मकान, सडक़ें  और बिजली पानी का बंदोबस्त था।

सीबीआई द्वारा की जा रही कार्रवाई पर चुटकी लेते हुए हुड्डा ने कहा कि शोर करते रहो तुम सुर्खियों में आने के लिए, मेरी तो खामोशी भी पूरा अखबार है। इस जांच की वजह जानने पर हुड्डा ने कहा कि शख्सियत दमदार होती है तभी दुश्मन भी बनते हैं, वरना कमजोरों को यहां पूछता ही कौन है।

हुड्डा ने अपने विरूद्ध हो रही तमाम कार्रवाईयों को राजनीति से प्रेरित करार देते हुए कहा कि मौजूदा भाजपा सरकार को इस मामले में अपना डर सता रहा है। क्योंकि सरकार ने बावल में 3600 एकड़ जमीन को अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया। सरकार के पास इस बात का क्या जवाब है। अगर वह कहते हैं कि लोगों के कहने पर छोड़ा तो मैं भी यही कह रहा हूं कि मैंने भी लोगों के हित में उनके  कहने पर जमीन को अधिग्रहण से मुक्त किया था।

हुड्डा ने मुख्यमंत्री के विदेश दौरे पर चुटकी लेते हुए कहा कि पहला ट्रायल तो विफल हो गया। अब यदि मुख्यमंत्री कोई निवेश लाते हैं तो वह उनकी तारीफ करेंगे। उन्होंने कहा कि  निवेशक  हरियाणा में अनुकूल माहौल नहीं होने के  कारण ही कन्नी काट रहे हैं।

मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर द्वारा हालही में उत्तरी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में एसवाईएल के मुद्दे पर हुई चर्चा को हुड्डा ने बेमायने करार देते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से हरियाणा के  हक  में फैसला आ चुका है। इसलिए ऐसे किसी भी मंच पर एसवाईएल के पानी के बंटवारे या नहर के  निर्माण को लेकर बातचीत का कोई औचित्य नहीं है।


भाजपा की घेराबंदी को राष्ट्रीय स्तर पर अभियान चलाएगी कांग्रेस

भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा उनके विरूद्ध ही नहीं बल्कि अन्य कई नेताओं के विरूद्ध राजनीतिक द्ववेश की भावना से कार्रवाई की जा रही है। हुड्डा ने कहा कि ताजा हालातों पर पार्टी द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर मंथन किया जाएगा। वह इस मामले को लेकर जल्द ही पार्टी हाईकमान के नेताओं के साथ दिल्ली में मुलाकात करेंगे। उसके बाद पार्टी द्वारा भाजपा के विरूद्ध राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया जाएगा।

अब तंवर के साथ नहीं कोई मतभेद
पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर द्वारा सीबीआई की कार्रवाई की निंदा करने तथा हुड्डा का बचाव किए जाने के बाद आज भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी इस मामले में कुछ नरम दिखाई दिए। हुड्डा ने कांग्रेस पार्टी की कमान राहुल गांधी को सौंपने का समर्थन करते हुए कहा कि बदलाव का यह फैसला पार्टी नेतृत्व के अधिकार क्षेत्र में है। उन्होंने कहा कि अशोक तंवर के साथ उनके कोई मतभेद नहीं हैं। वह सभी पार्टी के हित में काम कर रहे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned