कमल हासन ने क्यों नहीं उठाई भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज : भाजपा

Mukesh Sharma

Publish: Jul, 18 2017 05:41:00 (IST)

Chennai, Tamil Nadu, India
कमल हासन ने क्यों नहीं उठाई भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज : भाजपा

एआईएडीएमके अम्मा पार्टी, जिसे लगातार अभिनेता कमल हासन की आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है,

चेन्नई।एआईएडीएमके अम्मा पार्टी, जिसे लगातार अभिनेता कमल हासन की आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है, के समर्थन में आकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष तमिलइसै सौंदरराजन ने कहा कि वे जानना चाहती हैं कि जब राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री जे.जयललिता जिंदा थीं तो अभिनेता ने भ्रष्टाचार के मुद्दों पर अपनी आवाज क्यों नहीं उठाई।

संवाददाताओं से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि उस समय कमल हासन में हिम्मत नहीं थी कि वे शिकायत कर सकें। अभिनेता को पहले फिल्म उद्योग में चल रहे विवाद को सुलझाने की ओर ध्यान देना चाहिए। सिनेमा की दुनिया में परेशान हो रहे लोगों की सहायता करने के बजाय वह सरकार की आलोचना करने में लगे हैं।

कमल के समर्थन में आए डीएमके कार्यकारी अध्यक्ष एम.के. स्टालिन की आलोचना करते हुए तमिलइसै ने कहा कि वे जानना चाहती हैं कि जब सत्ता में डीएमके का शासन था तो क्या डीएमके सदस्यों ने फिल्मी हस्तिओं के साथ लोकतांत्रिक तरीके से व्यवहार किया था? उल्लेखनीय है कि अभिनेता कमल हासन के टिप्पणी के बाद जब सत्तारूढ़ पार्टी के मंत्रियों ने उनकी आलोचना करनी शुरू की थी तो स्टालिन अभिनेता के समर्थन में आ गए थे।

हिम्मत हो तो राजनीति में शामिल हों कमल हासन : डी जयकुमार

चेन्नई. सत्तारूढ़ पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने सोमवार को अभिनेता कमल हासन को चुनौती देते हुए कहा कि पहले वे राजनीति में शामिल हों और फिर राजनीतिक व्यवस्था के बारे में बात करें। यहां संवाददाताओं से बातचीत के दौरान वित्त मंत्री डी. जयकुमार ने कहा कि अगर कमल हासन के पास हिम्मत है तो उन्हें राजनीति में शामिल हो जाना चाहिए। उसके बाद अगर वह चाहे तो सरकार पर आरोप लगा सकते हैं।  अभिनेता अनावश्यक रूप से सरकार की आलोचना कर रहे हैं और पार्टी के मंत्री सिर्फ उनके आरोपों पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। डीएमके को भी अभिनेता का समर्थन करने के लिए मजबूर किया गया है।

कानून मंत्री सी. वी. षणमुगम ने कहा कि अगर अभिनेता में हिम्मत थी तो उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री जे.जयललिता के दौरान ही भ्रष्टाचार के मुद्दों पर अपनी आवाज उठानी चाहिए थी। हालंाकि जब डीएमके प्रमुख एम. करुणानिधि मुख्यमंत्री थे तो अभिनेता अजीत ने उनके उपस्थिति में कहा था कि डीएमके के करीबी लोगों द्वारा अभिनेताओं को धमकी दी जा रही है। लेकिन जब अम्मा थी तो उस दौरान कमल हासन ने किसी प्रकार की शिकायत नहीं की। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने कमल हासन का समर्थन करते हुए कहा कि सरकार पर आरोप लगाने वालों को मंत्री किसी प्रकार का धमकी नहीं दे सकते हैं। उन्होंने कोई गलत बात नहीं की है, मंत्रियों को सही तरह से जवाब देना चाहिए।

मंत्रियों ने कमल हासन के  बजाय हमें क्यों नहीं दी धमकी?


चेन्नई. विधानसभा में विपक्ष के नेता एम.के.स्टालिन ने सोमवार को राज्य सरकार के मंत्रियों से सवाल किया कि उन्होंने कमल हासन के बजाय हमें क्यों नहीं धमकी दी? स्टालिन ने कहा वे लंबे समय से कह रहे हैं कि तमिलनाडु सरकार में भ्रष्टाचार व्याप्त है लेकिन न तो सरकार ने हमें कोई धमकी दी और न ही हमारे खिलाफ मामला दर्ज किया। इस मामले में मंत्री कमल हासन को धमकी दे रहे हैं। कमल ने कहा था कि सरकार का कोई भी विभाग भ्रष्टाचार से मुक्त नहीं है।

स्टालिन ने कहा कि उनकी पार्टी कहती रही है कि मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी तथा स्वास्थ्य मंत्री सी. विजयभास्कर व अन्य मंत्री भ्रष्टाचार में डूबे हुए हैं बावजूद इसके सरकार उनके विरुद्ध माामले दर्ज करने को तैयार नहीं हैं जबकि सरकार के मंत्री इसके उलट कमल हासन को धमकी दे रहे हैं। अन्य सभी लोगों की तरह कमल हासन को भी अधिकार है कि वे सरकार के भ्रष्टाचार के बारे में बताएं। उन्होंने कहा कि विधानसभा में स्वास्थ्य मंत्री के विरुद्ध दस्तावेज पेश किए गए। सार्वजनिक सभाओं में भी हमने दिखाया था कि मंत्री कितने भ्रष्ट हैं। ये सभी दस्तावेज आयकर विभाग तथा चुनाव आयोग ने जारी किए थे। डीएमके नेता ने कहा कि अभिनेता ने किसी का नाम नहीं लिया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned