हर्रई घोटाले पर शिवराज सरकार सक्रिय, दोषियों पर गिर सकती है गाज

Manohar Soni

Publish: Feb, 17 2017 12:03:00 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
हर्रई घोटाले पर शिवराज सरकार सक्रिय, दोषियों पर गिर सकती है गाज

करीब ढाई करोड़ रुपए के हर्रई नगर पंचायत घोटाले में शिवराज सरकार सक्रिय हो गई है।  प्रमुख सचिव और आयुक्त नगर प्रशासन भोपाल ने इस पर चल रही प्रशासनिक और पुलिस कार्रवाई को लेकर प्रभारी सीएमओ एसके गुप्ता को तलब किया है।


छिंदवाड़ा. करीब ढाई करोड़ रुपए के हर्रई नगर पंचायत घोटाले में शिवराज सरकार सक्रिय हो गई है।  प्रमुख सचिव और आयुक्त नगर प्रशासन भोपाल ने इस पर चल रही प्रशासनिक और पुलिस कार्रवाई को लेकर प्रभारी सीएमओ एसके गुप्ता को तलब किया है। इस पर शुक्रवार को चर्चा हो सकती है। इसके बाद राज्य शासन स्तर पर इस घोटाले के दोषियों पर कार्रवाई होने की संभावना हैं।
इस घोटाले में अब तक नगर पंचायत अध्यक्ष माधवी शाह, सीएमओ राजेन्द्र सिंह, घनश्याम यादव और राहुल यादव के नाम प्रमुख रूप से सामने आए हैं। इस घोटाले का स्वरूप पुलिस की जांच में लगातार बढ़ता जा रहा है। इसकी जांच अमरवाड़ा एसडीएम के अलावा उपसंचालक नगरीय प्रशासन विभाग की टीम भी कर चुकी है। एेसे में सभी तथ्यों से भोपाल के अधिकारी जानना चाह रहे हैं। प्रभारी सीएमओ गुप्ता ने बताया कि वे भोपाल में वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष घोटाले के संबंधित तथ्य रखेंगे। इस पर संचालनालय से उन्हें दिशा-निर्देश की अपेक्षा हैं।


अध्यक्ष के न रहने से वेतन-बिजली का संकट

नगर पंचायत अध्यक्ष माधवी शाह के पिछले तीन माह से हर्रई में न रहने से नगर पंचायत के बिजली के बिल भुगतान नहीं हो पा रहे हैं। इससे एक बार बिजली कट चुकी है। इसके अलावा कर्मचारियों के वेतन का भी संकट है। सीएमओ ने इसको लेकर कलेक्टर को पत्र लिखा और मार्गदर्शन मांगा है।

एसडीएम ने कलेक्टर को सौंपी रिपोर्ट

अमरवाड़ा एसडीएम केसी बोपचे ने हर्रई घोटाले से संबंधित जांच का प्रतिवेदन कलेक्टर को सौंप दिया है। इस रिपोर्ट में एसडीएम ने कहा कि हर्रई नगर पंचायत में चैक में छेड़छाड़ के साथ अन्य वित्तीय अनियमितता हुई है। इसके रिकार्ड मिल नहीं पा रहे हैं। इसे देखते हुए यहां वित्तीय वर्ष 2012 से लेकर 2017 तक स्पेशल ऑडिट कराया जाना चाहिए। एसडीएम ने बताया कि इस मामले की पुलिस अलग जांच कर रही है। फिलहाल उन्होंने कलेक्टर को इसकी जांच रिपोर्ट सौंप दी है। इधर, कलेक्टर कार्यालय इस रिपोर्ट का अध्ययन कर रहा है।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned