मंच पर भिड़ गए प्रभारी मंत्री और विधायक

prabha shankar

Publish: Mar, 20 2017 12:07:00 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
मंच पर भिड़ गए प्रभारी मंत्री और विधायक

भाषण का अवसर न मिलने से नाराज हुए विधायक जतन उईके, प्रभारी मंत्री ने कहा पांच साल हैं भोपाल में दे देना भाषण

पांढुर्ना (छिंदवाड़ा). भाषण देने का अवसर न मिलने की बात पर प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन और विधायक जतन उईके मंच पर ही भिड़ गए।  उईके ने कहा कि यह प्रोटोकाल का हनन है।  कार्यक्रम मेरी अध्यक्षता में हो रहा है और मुझे ही बोलने का मौका नहीं दिया जा रहा है। यह आदिवासी नेता ही नहीं, बल्कि पूरे आदिवासी समाज का अपमान है। मुझे नहीं तो कम से कम जिसके जनपद में यह कार्यक्रम हो रहा है उस जनपद पंचायत के अध्यक्ष गणेश पद्माकर को तो बोलने का मौका दे दो। इस पर मंच से जा रहे प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने पुन: मंच पर पहुंचकर विधायक के हाथों से माइक छीनकर कहा कि यहां किसी का अपमान नहीं किया गया। आपके पास पांच साल हैं तो, आप भोपाल में जाकर बोल लेना। इस दौरान माहौल गरमा गया।


Image may contain: 1 person, standing and indoor


हुआ यूं कि पांढुर्ना के कृषि मंडी परिसर में रविवार को अंत्योदय मेले का आयोजन किया गया था। दोपहर तीन बजे से सभी जनप्रतिनिधि प्रभारी मंत्री का इंतजार कर रहे थे। लम्बे इंतजार के बाद शाम करीब 5.30 बजे पहुंचे प्रभारी मंत्री ने आते ही मंच पर माइक पकड़ कर भाषण देना शुरू कर दिया। करीब आधे घण्टे तक वे भाषण देते रहे। इस दौरान किसी भी जनप्रतिनिधि को बोलने का मौका नहीं मिला।

Image may contain: 3 people, people standing and indoor


कार्यक्रम में बैठीं महिलाएं लौटने लगीं तो कार्यक्रम स्थल का गेट बंद कर दिया गया। इससे परेशान ग्रामीणों ने रोष भी जताया। इसी के बाद मंच पर भाषण देने को लेकर विवाद गरमा गया।

Image may contain: one or more people and people standing

विधायक ने लगाए आरोप
विधायक जतन उईके ने पत्रिका को बताया कि कार्यक्रम के दौरान प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने न तो मुझे बोलने का मौका दिया और न ही दलित नेता गणेश पद्माकर को बोलने दिया। हमें उम्मीद थी कि कार्यक्रम के अध्यक्ष के तौर पर भाषण देने के लिए बुलाया जाएगा। इस मेले में अन्त्योदय का कोई मतलब नहीं रह गया था।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned