मोटर लगाकर ले रहे नदी का पानी

mantosh singh

Publish: Feb, 16 2017 05:15:00 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
मोटर लगाकर ले रहे नदी का पानी

पगारा क्षेत्र के दर्जनों ग्रामों की जीवनरेखा सुकरी नदी का पानी पूरी तरह सूख चुका है। इन क्षेत्रों में सुकरी नदी के अलावा अन्य कोई बड़ा जल स्रोत नहीं होने के कारण पानी को लेकर लोगों की चिंता बढऩे लगी है।

परासिया. पगारा क्षेत्र के दर्जनों ग्रामों की जीवनरेखा सुकरी नदी का पानी पूरी तरह सूख चुका है। इन क्षेत्रों में सुकरी नदी के अलावा अन्य कोई बड़ा जल स्रोत नहीं होने के कारण पानी को लेकर लोगों की चिंता बढऩे लगी है। सुकरी नदी का उद्गम स्थल कालापहाड तामिया है। नदी मैनावाड़ी, सिरगोरी के पास पेंच नदी में समाहित हुई है।

नदी का पानी समय पूर्व सूखने का एक बड़ा कारण नदी में बड़ी संख्या में लगे अवैध मोटर पम्प है। जो दिन रात पानी निकाल रहे हैं। अब नदी में कुछ गहरे स्थान जिन्हें डोह कहा जाता है। उसका पानी भी निकाला जा रहा है। अवैध मोटर पम्प को पत्तियों झाडियों और बोरों से ढक दिया जाता है। जिसके कारण वह दूर से दिखाई नहीं देते हंै।

नदी के आसपास ग्रामों के पशुपालकों के समक्ष सबसे बड़ी चिंता ग्रीष्मकाल की है। ग्राम पंचायतों ने बारिश के बाद नदी का प्रवाह कम होने पर स्टाप डेम गेट नहीं लगाया। जिसके कारण पानी एकत्र नहीं हो पाया। ग्रीष्मकाल प्रारंभ होने के पूर्व ही सुकरी नदी का पानी पूरी तरह सूख गया है। किसान सुखलाल कहार कहते हंै कि नदी किनारे एमपीईबी अधिकारियों ने बिना जांच के पम्प कनेक्शन बांटे गए हैं। लोगों ने नदी के पानी का भरपूर दोहन कर लिया है।

नदी किनारे वाले परासिया क्षेत्र के बुदलापठार, जामुनबर्रा, पगारा, बेलगांव, गौली परासिया, बरारिया, मैनावाडी, सिरगोरी सबसे अधिक प्रभावित ग्राम है। एक माह पूर्व एसडीएम कक्ष में अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के बीच जलसंकट को लेकर हुई बैठक में तत्कालीन एसडीएम ने विद्युत अधिकारियों को निर्देशित किया था कि बिना राजस्व या पीएचई विभाग की अनुमति से नदी किनारे अस्थाई बिजली कनेक्शन नहीं दिए जाएं।

गर्मी में आएगी परेशानी
अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों की लापरवाही के कारण सुकरी नदी में समय पूर्व जल सूखने लगा है। अवैध पम्प कनेक् शनों से डोह तक का पानी निकाल लिया जा रहा है। जिसके कारण मवेशियों को पानी पिलाना मुश्किल हो जाएगा। वे अधिक परेशान गर्मी में होंगे।
मोहन कहार, अध्यक्ष अंत्योदय समिति

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned