मंदसौर के बाद अब यहां फूटा अन्नदाता का आक्रोश, हाइवे जाम, आगजनी

chhindwara
  मंदसौर के बाद अब यहां फूटा अन्नदाता का आक्रोश, हाइवे जाम, आगजनी

प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकार के विरोध में की नारेबाजी


सौंसर. प्रदेश का परेशान किसान इन दिनों आंदोलन की राह अख्तियार कर रहा है। मालवा का किसान आंदोलन राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में है। इसी बीच संतरांचल के किसानों का आक्रोश फूट पड़ा है। सौंसर में किसानों ने सड़क पर प्रदर्शन करते हुए टायर जलाए और चक्काजाम कर दिया।इस दौरान प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकार और शासन, प्रशासन के  विरोध में जमकर नारेबाजी की। 

यह है मामला

दरअसल, यहां सेज में जिन किसानों की भूमि गई है, उनके 37 करोड़ रुपए अब तक नहीं मिले है। इसी कारण किसानों का आक्रोश फूटा। मंगलवार को किसानों ने सड़क पर चकाजाम करते हुए विरोध प्रदर्शन किया।
कांग्रेस के बैनर तले किसानों ने बोरगांव में खुल रही गुलशन शराब फैक्ट्री एवं छिंदवाडा प्लस कंपनी और सरकार की ओर से जमींन की राशि नहीं दिए जाने को लेकर प्रदर्शन किया। रैली निकालकर हाईवे जाम कर दिया और फिर टायर तक जलाए।

चार घंटे बाधित रहा आवागमन

विरोध कर छिंदवाड़ा प्लस कम्पनी, बीजेपी सरकार और स्थानीय प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। यह प्रदर्शन चार घंटे तक चला। इसके पूर्व मौके पर पहुंचे कंपनी और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ किसानों की बंद कमरे में बैठक हुई। हालांकि एक घंटे तक चली बैठक बेनतीजा रही।

ये रहे शामिल

sausar

जानकारी के अनुसार बैठक में छिंदवाड़ा डिप्टी कलेटर अर्जित तुर्की, छिंदवाडा प्लस कम्पनी के सुनील पुरी और किसानों का पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल शामिल था। बैठक में कम्पनी की ओर से वतर्मान प्रति एकड़ 20 हजार रुपए देने की बात कही जा रही थी, वहीं किसान 5 लाख रुपए प्रति एकड़ की मांग पर अड़े थे। बैठक बेनतीजा रहने के कारण किसानों ने कांग्रेस के साथ तहसील कार्यालय परिसर में ही प्रदर्शन शुरू कर दिया।  समझाइश देने पहुंचे डिप्टी कलेक्टर तुर्की को किसानों के आक्रोश का सामना करना पड़ा।

एफआईआर की मांग

कांग्रेसी नेताओं और प्रदर्शनकारी किसानों का कहना था कि जब किसानों को राशि ही नहीं मिली है तो अधिकारियों ने भूअर्जन और अवार्ड कैसे पारित कर दिया। इसके लिए छिंदवाड़ा प्लस कंपनी के मालिक और अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज होनी चाहिए। साथ ही बोरगाव में खुल रही गुलशन शराब फैक्ट्री पर तत्काल रोक लगानी चाहिए।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned